चुटिया थाना एरिया का मामला, वेस्ट बंगाल के बलरामपुर में है मोबाइल चोरी का आरोपी

- 26 मार्च को तपोवन में मेला घूमने के दौरान अरविंद का मोबाइल हो गया था गायब

ह्मड्डठ्ठष्द्धद्ब@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ(31 रूड्डह्मष्द्ध): जिस शख्स की मोबाइल फोन चोरी हुई, उसी ने अपने स्तर पर मोबाइल चोर को ढूंढ निकाला है. उसने उसका नाम व अड्रेस भी पता कर लिया है. वह संबंधित पुलिस अधिकारियों से सिर्फ यह गुहार लगा रहा है कि वे एक फोन कर दें तो वह खुद पश्चिम बंगाल जाकर अपनी मोबाइल को आरोपी के पास से ले लेगा, लेकिन पुलिस का कहना है कि जबतक एसएसपी ऑफिस से कागज नहीं आ जाता, तबतक वे कुछ कर नहीं सकते. पीडि़त अरविंद मूल रूप से देवघर का रहनेवाला है और रांची स्थित एक पैथोलॉजी में वह काम करता है.

एफआईआर पर एक्शन नहीं

अरविंद ने 26 मार्च को मोबाइल गुम होने का एक सनहा चुटिया थाना में दर्ज कराया गया था, लेकिन थाना प्रभारी ने इसकी जांच का जिम्मा किसी भी पदाधिकारी को नहीं दिया. तीन दिन गुजरने के बाद जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो 30 मार्च को वह एसएसपी ऑफिस में मोबाइल गुम होने का आवेदन दिया. आवेदन में उसने लिखा कि चुटिया पुलिस में रिपोर्ट करने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हो रही है.

ऐसे खोज निकाला मोबाइल चोर को (बॉक्स)

अरविंद के मुताबिक, मोबाइल ट्रैक का एप डाउनलोड कर आरोपी को उसने खोज निकाला. उसने बताया कि एप्प डाउनलोड करने के बाद उसने अपना मेल एकाउंट डाला. मेल एकाउंट डालकर उसने उसके जरिए लोकेशन का पता लगाना शुरू किया. लोकेशन का पता लगाने के बाद पता चला कि उसका मोबाइल पश्चिम बंगाल के बलरामपुर थाना के नजदीक है. उस आरोपी ने पहले तो मोबाइल लौटाने की बात दी, बाद में मोबाइल स्वीच ऑफ कर दिया. पर, उसे यह नहीं पता था कि मेल के माध्यम से उसका लोकेशन ट्रेस किया जा रहा है.