स्टॉकहोम (एएफपी)। यौन उत्पीड़न के मामले को लेकर स्वीडिश एकादमी ने पिछले साल के नोबेल पुरस्कार को स्थगित कर दिया था। अब इस एकादमी गुरुवार को दो विजेताओं को साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार दिया है। स्वीडिश एकादमी ने ऑस्ट्रेलियाई लेखक पीटर हैंडके को 2019 के लिए और लेखिका ओल्गा टोकर्कज़ुक को 2018 के लिए साहित्य का नोबल पुरस्कार दिया है। इसी बीच कुछ नाम जो नोबेल पुरस्कार के लिए चर्चा में रहे, उनमे कवि ऐनी कार्सन और उपन्यासकार मार्गरेट एटवुड, केन्याई लेखक न्गुगी वा थिओगो, पोलिश लेखक व एक्टिविस्ट ओल्गा टोकार्कुक और फ्रांसीसी गुआदेलूपियन मैरीस कोंडे के नाम शामिल हैं।


किसी भी तरह का विवाद नहीं चाहती एकादमी

इस घोषणा के बाद विशेषज्ञों ने कहा है कि एकादमी इस साल के विजेताओं को लेकर किसी भी तरह के विवाद में नहीं पड़ना चाहती है। दरअसल, पिछली बार जिनका नाम नोबल साहित्य पुरुस्कार के लिए दिया गया था उनमें से एक के पति को यौन उत्पीड़न के मामले में जेल की सजा काटनी पड़ी थी। इसलिए एकादमी ने इसे स्थगित कर दिया था।

Explainer Nobel Prize 2019 Chemistry: Lithium ion बैटरी के विकास के लिए इन्हें मिला यह पुरस्कार


स्वीडिश एकादमी को करना पड़ा था आलोचनाओं का सामना
यौन उत्पीड़न कांड के बाद स्वीडिश एकादमी को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। पिछले 70 सालों में पहली बार 2018 के पुरस्कार को रद किया गया था। साहित्यिक आलोचक ने एएफपी से बातचीत में कहा कि नए तरीके से सदस्यों का चुनाव के बाद ये उम्मीद है कि इन लेखकों का किसी विवाद के साथ कोई नाता ना हो। 1901 के बाद से नोबल जीतने वाले साहित्यकारों में से 14 महिलाएं हैं।

 

Posted By: Mukul Kumar

International News inextlive from World News Desk

inext-banner
inext-banner