दो दफ्तरों के बीच फंस गई पासपोर्ट ऑफिस की सुविधाएं

अधिकारी बोले, अगर नहीं मिली सुविधाएं, वापस बुलाएंगे कर्मचारी

Meerut . शहरवासियों की सुविधा के लिए सांसद की पहल से पासपोर्ट ऑफिस का शुभारंभ जोर-शोर से किया गया था. बावजूद इसके, सुविधाओं का अभाव होने के कारण आवेदकों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है. हालत यह है कि थ्री फेज बिजली कनेक्शन की सुविधा पासपोर्ट ऑफिस को अभी तक नहीं मिल सकी है. यही नहीं, बिजली न आने की स्थिति में जनरेटर भी दूसरे विभाग का ही यूज किया जा रहा है. जो कभी भी वापस जा सकता है. कैंट डाकघर में स्थित पासपोर्ट ऑफिस में अभी बुनियादी सुविधाएं भी नहीं हैं. वहीं डाक विभाग के अधिकारी इस मामले में बातचीत करने से भी कतरा रहे हैं.

नहीं मिला थ्री फेज कनेक्शन

दरअसल, बिजली के ज्यादा लोड के कारण थ्री फेज कनेक्शन का प्रयोग किया जाता है. इसके लिए पासपोर्ट अधिकारियों ने शुरूआत में डाक विभाग के अधिकारियों को बताया था, लेकिन अभी तक यह व्यवस्था नहीं शुरू हो सकी है. हालांकि, पासपोर्ट ऑफिस एक पासपोर्ट में से 330 रुपये डाक विभाग को देता है. इसमें बिजली का बिल, सिक्योरिटी व साफ सफाई शामिल है. अधिकारियों की मानें तो यदि जल्द ही डाक विभाग ने कोई व्यवस्था नहीं की तो पासपोर्ट ऑफिस के कर्मचारियों को वापस गाजियाबाद ऑफिस बुला लिया जाएगा. हालांकि, मंगलवार को सहारनपुर में पासपोर्ट सेवा केन्द्र की शुरुआत की गई, जिसमें डाक विभाग ने पहले ही थ्री फेज कनेक्शन लगवा दिया.

जा सकता है जनरेटर

पासपोर्ट ऑफिस में इस्तेमाल हो रहा जनरेटर भी आरपीएम ऑफिस का है. जो कभी भी वापस जा सकता है.

पासपोर्ट ऑफिस को शुरु करने से पहले ही डाक विभाग को सभी चीजों की जानकारी दी गई थी, लेकिन अब डाक विभाग के अधिकारी मुकर रहे हैं. अगर जल्द ही कोई व्यवस्था नहीं होती है तो स्टाफ को वापस बुला लिया जाएगा.

दीपक चन्द्रा, सहायक पासपोर्ट अधिकारी