- राजकीय एथलेटिक्स प्रतियोगिता में दिखी अव्यवस्था

- फ‌र्स्ट एड तक की सुविधा नहीं मिली खिलाडि़यों को

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW:

शहर के जिस ग्राउंड पर सुधा सिंह ने प्रैक्टिस की शुरुआत की और एशियन गेम्स में पदक जीत देश का नाम रोशन किया. आज उसी ग्राउंड पर स्कूली बच्चों की एथलेक्टिस प्रतियोगिता आयोजित की गई. जिसमें कई इवेंट में बच्चों ने हिस्सा लिया. लेकिन आयोजकों ने यहां खिलाडि़यों को चेस्ट नंबर तक नहीं बांटे. मामला सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं है. कई इवेंट में खिलाड़ी गिर कर चोटिल हुए, लेकिन उन्हें यहां फ‌र्स्ट एड तक नहीं मिली. हाल यह था कि एक-एक खिलाड़ी ने कई इवेंट में नाम लिखा रखे थे, लेकिन आयोजकों ने एक ही समय कई इवेंट करा दिए जिससे कई बच्चे कई इवेंट में शामिल ही नहीं हो सके.

सुबह से लग गई भीड़

केडी सिंह बाबू स्टेडियम में सोमवार से जनपदीय विद्यालयीय एथलेटिक प्रतियोगिता शुरू हुई. पहले दिन यहां दौड़ की विभिन्न स्पर्धाओं के साथ ही शॉटपुट, लांग जम्प और हाई जम्प के मुकाबले हुए. इनमें हिस्सा लेने के लिए सुबह से ही बच्चे स्टेडियम पहुंच गए. यहां सब जूनियर, जूनियर और सीनियर तीन वर्गो में प्रतियोगिता हुई. इसमें शामिल हुए कई लोगों ने बताया कि जब वे चेस्ट नंबर लेने आयोजकों के पास गए तो उन्होंने चेस्ट नंबर होने से इंकार कर दिया. ऐसे में हमें बिना चेस्ट नंबर के भागना पड़ा.

नहीं मिला इलाज

खिलाडि़यों ने बताया कि फर्राटा दौड़ के दौरान एक खिलाड़ी गिर कर चोटिल हो गया. उसे इलाज के लिए ले जाया गया. लेकिन ग्राउंड पर उसे फ‌र्स्ट एड तक नहीं मिली. जबकि ऐसे कंप्टीशन में ग्राउंड पर एम्बुलेंस और फ‌र्स्ट एड तक की व्यवस्था होती है.

चेस्ट नंबर नहीं बंट पाए लेकिन स्कूल और खिलाडि़यों के नाम पुकार कर इवेंट कराया गया. किसी खिलाड़ी को कोई खास चोट नहीं आई है. छोटी मोटी चोटें तो खिलाडि़यों को लगती ही रहती हैं.

वेद यादव, क्रीड़ा सचिव

जिला विद्यालयीय क्रीड़ा समिति