- गंगा किनारे के 14 वाडरें की करेंगे मॉनीटरिंग, बेहतर व्यवस्था के लिए 818 कर्मियों की बनी टीम

varanasi@inext.co.in

VARANASI

गंगा किनारे के 14 वाडरें में नगर निगम अब खुद ही कचरा उठान कराएगा. इसके लिए 46 प्राइवेट सुपरवाइजरों की मदद ली जाएगी. साथ ही बेहतर ढंग से व्यवस्था संचालन के लिए 818 सफाईकर्मियों को जिम्मेदारी सौंपी जाएगी ताकि हेरिटेज महत्व वाले इन वाडरें में किसी भी तरह की कोई दिक्कत न हो. चरणबद्ध ढंग से कुछ वाडरें में दो शिफ्ट, जबकि श्री काशी विश्वनाथ मंदिर से सटे इलाकों में रात और दिन मिलाकर तीन चरणों में कूड़ा उठान किया जाएगा.

इन वाडरें में उठेगा कूड़ा

राजघाट, प्रहलाद घाट, कामेश्वर महादेव, राजमंदिर, कालभैरव, गढ़वासी टोला, गोला दीनानाथ, दशाश्वमेध, जंगमबाड़ी, बंगाली टोला, मदनपुरा, बागहाड़ा, शिवाला और भदैनी.

73 लाख हर महीने होंगे खर्च

हेरिटेज महत्व वाले इन 14 वाडरें में कूड़ा उठान से लेकर ट्रांसपोर्टेशन तक हर माह करीब 73 लाख रुपया खर्च आएगा. प्रभारी नगर स्वास्थ्य अधिकारी राम सकल यादव ने बताया कि 16 अक्टूबर से नगर निगम अपने संसाधनों व कर्मियों के बलबूते 14 वाडरें में कूड़ा उठान कराते हुए झाड़ू लगवाएगा. आईएलएफएस के ही हटाये जाने वाले कर्मियों से नगर निगम पैसा देकर सफाई का काम कराएगा. घाटों की सफाई व धुलाई की आईएलएफएस पूर्ववत करती रहेगी.

कार्यक्षेत्र में फेरबदल

शासन के निर्देश पर नगर निगम प्रशासन ने स्थानीय स्तर पर फेरबदल किया है. अब नये अफसरों को जिम्मेदारियां सौंपी गई हैं. नई व्यवस्था के तहत सहायक नगर आयुक्त आशीष ओझा को कोतवाली का जोनल अधिकारी बनाया गया है. अम्बेडकर नगर के टांडा नगर पालिका में कार्यरत रहे आशीष छह अगस्त को नगर निगम में ज्वॉइन किए थे. वहीं कोतवाली के जोनल अधिकारी रहे अरविंद यादव को शुक्रवार को कार्यमुक्त कर दिया गया. अब वह मिर्जापुर में कर निर्धारण अधिकारी होंगे. उधर, करीब छह माह पूर्व शासन से स्थानांतरित तीन सफाई व खाद्य निरीक्षकों को नगर निगम प्रशासन ने रिलीव किया. दशाश्वमेध सफाई जोन में तैनात शिवेश तिवारी प्रतापगढ़, चेतगंज में तैनात राजन यादव इलाहाबाद व सिकरौल में तैनात लालमनि यादव चुनार में इसी पद पर तैनात होंगे.