- डिजिटली साइन और वेरिफाइड डिग्री ऑनलाइन की जा सकेगी डाउनलोड

- तीन साल के सर्टिफिकेट कर दिए अपलोड, वहीं डिग्री ऑनलाइन करने की प्रॉसेस शुरू

- गोरखपुर यूनिवर्सिटी ने नैड के साथ किया है करार, नेक्स्ट इयर से शुरू होने की उम्मीद

GORAKHPUR: डीडीयू गोरखपुर यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स को डिग्री नहीं मिलेगी. न ही स्टूडेंट्स की डिग्री और मार्कशीट का वेरिफिकेशन ही होगा. ऐसा इसलिए कि अब यूनिवर्सिटी में सभी डिग्री और सर्टिफिकेट ऑनलाइन करने की कवायद तेज कर दी गई है. यह सर्टिफिकेट डिजिटली साइन होने के साथ संबंधित अथॉरिटी से वेरिफाइड होंगे और यूनिवर्सिटी की वेबसाइट पर मौजूद होंगे. इससे स्टूडेंट्स अपने डॉक्युमेंट्स तत्काल सब्मिट कर सकेंगे, वहीं वेरिफिकेशन करने वाली अथॉरिटी को ज्यादा जहमत नहीं उठानी पड़ेगी और वेरिफिकेशन का इंतजार नहीं करना पड़ेगा.

वेरिफाइड डिग्री होगी अपलोड

गोरखपुर यूनिवर्सिटी नए सेशन से स्टूडेंट्स की डिग्री ऑनलाइन ही जारी करने की कोशिश में जुट गई है. इसके लिए उन्होंने डाटा ऑनलाइन कराना शुरू कर दिया है. यूनिवर्सिटी जो डिग्री या सर्टिफिकेट ऑनलाइन करेगी, वह एग्जामिनेशन कंट्रोलर से वेरिफाइड होगी और इस पर वेरिफाइड मार्क भी करेगा. इसको चेक करने के लिए एंप्लॉयर या इंस्टीट्यूशंस को यूजर नेम और पासवर्ड चाहिए होगा, जो कि संबंधित स्टूडेंट्स को ही दिया जाएगा. स्टूडेंट्स ऑन द स्पॉट वेबसाइट के जरिए अपनी डिग्री का वेरिफिकेशन करा सकेगा.

तीन साल का डाटा हुआ अपलोड

यूनिवर्सिटी ने इस संबंध में कवायद भी शुरू कर दी है. अब तक तीन साल का डाटा ऑनलाइन किया जा चुका है. 2015-16, 2016-17 और 2017-18 के मा‌र्क्स और स्टूडेंट्स की डीटेल नैड ने अपलोड कर दी है. अभी इसे सार्वजनिक नहीं किया गया है और सिर्फ जिम्मेदार ही इसे देख सकते हैं. इसके बाद डिग्री और सर्टिफिकेट भी ऑनलाइन कर दिए जाएंगे, जिसके बाद स्टूडेंट्स को यूजर नेम और पासवर्ड अलॉट करने की प्रॉसेस शुरू हो जाएगी. इससे कैंडिडेट्स कहीं से भी अपना वेरिफिकेशन करा सकेंगे.

एनएडी के फायदे

इंस्टीट्यूशंस को फायदे

- सभी एकेडमिक सर्टिफिकेट को रखने का स्थाई और सिक्योर ऑनलाइन स्टोर होगा.

- डुप्लिकेट सर्टिफिकेट के लिए कैंडिडेट्स को अब भटकने के बजाए इसे सीधे एनएडी से ही डाउनलोड किया जा सकेगा.

- नकली और जाली सर्टिफिकेट के इस्तेमाल पर रोक लगेगी.

कैंडिडेट्स को क्या होगा फायदा

- एकेडमिक इंस्टीट्यूशंस की ओर से अपलोड एकेडमिक सर्टिफिकेट तत्काल मिल जाएंगे.

- सर्टिफिकेट का ऑनलाइन और स्थायी रिकॉर्ड

- सर्टिफिकेट खोने, खराब होने और नष्ट होने का कोई खतरा नहीं.

- अपने सर्टिफिकेट्स को कभी भी और कहीं से भी एक्सेस करने की फैसिलिटी

- गैजेटेड ऑफिसर की ओर से सर्टिफिकेट की सर्टिफाइड कॉपी की नहीं पड़ेगी जरूरत.

यह हैं एकेडमिक अवॉर्ड

डिग्री सर्टिफिकेट

डिप्लोमा सर्टिफिकेट

सर्टिफिकेट

मार्कशीट

वर्जन

गोरखपुर यूनिवर्सिटी का नैड से करार पहले ही हो चुका है. 2015 से अब तक के डाटा ऑनलाइन किए जा चुके हैं. डिग्री भी ऑनलाइन की जा रही है. कोशिश है कि इन सेशंस की डिग्री ऑनलाइन ही जारी की जाए. यह यूनिवर्सिटी की ओर से वेरिफाइड होगी और वेबसाइट पर अवेलबल होगी.

- शत्रोहन वैश्य, रजिस्ट्रार, डीडीयूजीयू