- दीक्षांत में सम्मानित होने वाले टॉपर्स की लिस्ट पर डीडीयूजीयू परीक्षा नियंत्रक ने मांगी थी आपत्ति

- इस्लामिया कॉलेज ऑफ कॉमर्स की छात्रा ने दर्ज कराई आपत्ति, कम नंबर पाने वाले का नाम शामिल होने की कही बात

GORAKHPUR: डीडीयूजीयू के फ्8वें दीक्षांत समारोह में सम्मानित होने वाले कॉमर्स टॉपर्स की लिस्ट को लेकर जंग छिड़ गई है. लिस्ट को लेकर डीडीयूजीयू परीक्षा नियंत्रक की ओर से आपत्तियां मांगी गई थीं. जिस पर इस्लामिया कॉलेज ऑफ कॉमर्स की छात्रा ने आपत्ति दर्ज कराई है. छात्रा ने वीसी व परीक्षा नियंत्रक से आपत्ति दर्ज कराकर श्रेष्ठता सूची पर विचार करने की गुहार लगाई है. वहीं परीक्षा नियंत्रक की तरफ से मामले में जांच पड़ताल कर वास्तविक छात्र का ही नाम टॉपर लिस्ट में दर्ज कराने की बात कही है.

कम नंबर वाला हो गया लिस्ट में शामिल

बता दें, डीडीयूजीयू का फ्8वां दीक्षांत समारोह ख्फ् अक्टूबर का आयोजित किया जाएगा. वहीं परीक्षा नियंत्रक की तरफ से ख्7 सितंबर को अंतिम प्रस्तावित टॉपर्स की सूची भी जारी कर दी गई है. जो सूची जारी की गई है उस पर कैंडिडेट्स द्वारा मांगे गए आपत्ति के लिए तीन अक्टूबर तक की डेट निर्धारित की गई है. इस्लामिया कॉलेज ऑफ कामर्स की छात्रा शिवांगी सिंह ने वीसी व परीक्षा नियंत्रक के पास आपत्ति दर्ज कराई है. शिवांगी का कहना है कि उसने क्800 में क्ख्भ्भ् अंक (म्9.7ख् प्रतिशत) एचीव किया है. जबकि यूनिवर्सिटी द्वारा जारी की गई लिस्ट में श्रेयांस मिश्रा को क्800 में क्ख्फ्क् अंक (म्8.फ्9 प्रतिशत) मिले हैं. छात्रा ने गुजारिश की है कि उसके इस आपत्ति पत्र को गंभीरता से लेते हुए श्रेष्ठता की सूची में करेक्शन किया जाए.

भरा था अंक सुधार, नहीं दर्ज होगा नाम

वहीं डीडीयूजीयू परीक्षा नियंत्रक डॉ. अमरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि छात्रा द्वारा आपत्ति पत्र दर्ज कराया गया है. जांच में पाया गया है कि छात्रा ने बीकॉम फ‌र्स्ट इयर में अंक सुधार फॉर्म भरा था जिसमें उसे अतिरिक्त नंबर मिले हैं. ऐसी कंडीशन में श्रेष्ठता की सूची में नाम दर्ज करना मुमकिन नहीं है. वहीं छात्रा का कहना है कि अंक सुधार नंबर से कम नंबर पर भी उसके मा‌र्क्स म्8.फ्9 प्रतिशत से अधिक थे.

वर्जन

छात्रा द्वारा आपत्ति दर्ज कराई गई है. लेकिन आपत्ति पर उसी के विचार किया जाता है जिसने अंक सुधार के लिए आवेदन न किया हो. जिसने प्रथम प्रयास में वास्तविक अंक प्राप्त किए हों वही श्रेष्ठता की सूची में मान्य होता है. परीक्षा समिति की बैठक में भी पास हो चुका है.

- डॉ. अमरेंद्र कुमार सिंह, परीक्षा नियंत्रक, डीडीयूजीयू

Posted By: Inextlive