कानपुर। भारतीय क्रिकेट टीम के नाम सबसे ज्यादा अंडर 19 क्रिकेट वर्ल्ड कप जीतने का रिकाॅर्ड है। जूनियर भारतीय क्रिकेट टीम कुल चार बार विश्व चैंपियन बनी है। इसमें से एक वर्ल्ड कप विराट कोहली ने जीता है। क्रिकइन्फो पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, भारत की अंडर 19 टीम ने 2 मार्च 2008 को साउथ अफ्रीकी टीम को हराकर खिताब अपने नाम किया था। उस वक्त टीम की कमान विराट कोहली के हाथों में थी। विश्व कप जीतते ही विराट के तो भारतीय सीनियर टीम के दरवाजे खुल गए मगर फाइनल खेलने वाले बाकी 10 क्रिकेटर कहां हैं, आइए जानते हैं..

तरुवर कोहली

2008 अंडर 19 फाइनल में दो कोहली फाइनल खेलने उतरे थे। इसमें एक विराट कोहली हैं तो दूसरे तरुवर कोहली। तरुवर ने फाइनल में आेपनिंग की थी आैर एक रन बनाकर आउट हो गए थे। अब 30 साल के हो चुके तरुवर को भारतीय टीम में अभी तक डेब्यू नहीं मिला। तरुवर इस समय पंजाब रणजी टीम की तरफ से खेलते हैं आैर आर्इपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब का हिस्सा रहे हैं।

अजितेश अर्गल

बॉलर अजितेश भी पिछले 11 सालों से टीम इंडिया में इंट्री का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि वह बड़ौदा रणजी टीम की तरफ से खेलते हैं लेकिन उन्हें घरेलू मैचों में भी ज्यादा मौका नहीं मिलता।

रवींद्र जडेजा

भारतीय आॅलराउंडर खिलाड़ी रवींद्र जडेजा ने भी विराट कोहली के साथ अंडर 19 वर्ल्ड कप फाइनल खेला था। जडेजा ने भी एक साल बाद ही टीम इंडिया में इंट्री मार ली थी। जडेजा को भारत के लिए इंटरनेशनल मैच खेलते 10 साल हो गए। इस दौरान उन्होंने गेंदबाजी ही नहीं बल्लेबाजी में खूब जौहर दिखाए।

मनीष पांडे

भारत के दाएं हाथ के बल्लेबाज मनीष पांडेय को भी भारतीय सीनियर क्रिकेट टीम की तरफ से खेलने को मिला। 29 साल के हो चुके मनीष ने 2015 में इंटरनेशनल डेब्यू किया। हालांकि टीम में उनकी जगह परमानेंट नहीं हो पार्इ मगर वह भारत के लिए 23 वनडे आैर 28 टी-20 मैच खेल चुके हैं। यही नहीं आर्इपीएल में वह पांच टीमों का हिस्सा बन चुके हैं।

इकबाल अब्दुल्ला

29 साल के हो चुके बाएं हाथ के तेज गेंदबाज इकबाल अब्दुल्ला आज तक भारतीय सीनियर टीम में इंट्री का इंतजार कर रहे। इकबाल फिलहाल मुंबई रणजी टीम का हिस्सा हैं आैर आर्इपीएल में तीन टीमों का हिस्सा बन चुके हैं।

प्रदीप सांगवान

दिल्ली रणजी टीम के खिलाड़ी प्रदीप सांगवान घरेलु क्रिकेट के बेहतरीन गेंदबाज हैं। लेकिन टीम इंडिया में डेब्यू का उन्हें आज भी इंतजार है। 28 साल के हो चुके सांगवान आर्इपीएल में चार टीमों का हिस्सा रहे हैं।

श्रीवत्स गोस्वामी

29 साल के गोस्वामी बंगाल रणजी टीम का हिस्सा हैं और टीम इंडिया में उनकी अभी तक इंट्री नहीं हुई। वह विकेटकीपर बल्लेबाज हैं। हालांकि उनका घरेलू क्रिकेट रिकाॅर्ड काफी अच्छा है मगर भारत की सीनियर क्रिकेट टीम से खेलने का सपना अभी तक पूरा नहीं हुआ।

सिद्धार्थ कौल

दाएं हाथ के तेज गेंदबाज सिद्धार्थ कौल को भारत की सीनियर टीम से खेलने के लिए 10 साल इंतजार करना पड़ा। कौल ने 2018 में इंटरनेश्सापल क्रिकेट में कदम रखा था हालांकि वह अपनी गेंदबाजी से ज्यादा प्रभावित नहीं कर पाए। उनके खाते में तीन वनडे जिसमें कोर्इ विकेट नहीं आैर तीन टी-20 मैच आए जिसमें उन्होंने चार विकेट चटकाए। वह पंजाब रणजी टीम की तरफ से खेलते हैं आैर आर्इपीएल में तीन टीमों के सदस्य रह चुके हैं।

सौरभ तिवारी

टीम इंडिया के दूसरे धोनी कहे जाने वाले सौरभ तिवारी ने भारत के लिए सिर्फ तीन वनडे खेले हैं। बाएं हाथ के बल्लेबाज सौरभ तिवारी को 2010 में वनडे डेब्यू का मौका मिला था। तीन मैचों में उनके नाम सिर्फ 37 रन दर्ज हैं। धोनी जैसी कद-काठी आैर हेयर स्टार्इल वाले सौरभ बिहार रणजी टीम का हिस्सा हैं आैर आर्इपीएल में चार टीमों से खेल चुके हैं।

तन्मय श्रीवास्तव

2008 अंडर 19 वर्ल्ड कप फाइनल में भारत की तरफ से सबसे ज्यादा 46 रन बनाने वाले बाएं हाथ के बल्लेबाज तन्मय श्रीवास्तव आज तक सीनियर भारतीय टीम में नहीं खेले। तन्मय उत्तर प्रदेश की तरफ से रणजी मैच खेलते हैं। हालांकि तीन साल में वह घरेलू क्रिकेट से भी नदारद हैं।

Ind vs Aus : घर पर कंगारुआें की खूब धुनार्इ करती है ये भारतीय जोड़ी

Ind vs Aus : पिछले 5 सालों में घर पर आॅस्ट्रेलिया से सिर्फ एक मैच हारी है इंडिया

Cricket News inextlive from Cricket News Desk