मुंबई (मिड-डे)। अनीस बज्मी ने 90 के दशक में बहुत सी यादगार फिल्में लिखी हैं, जिनमें ज्यादातर में गोविंदा और अनिल कपूर दिखे, और वे वास्तव में मजेदार और मनोरंजक थीं और यहां तक कि अगर कहानी में कोई कमी रह गई या वो अवास्तविक नजर आती तो लीड रोल निभाने वालों ने उसे संभाल लिया। एक निर्देशक के रूप में भी उनकी कई फिल्में मजेदार थीं जैसे कि 'नो एंट्री', 'वेलकम' और 'सिंह इज किंग'।

U/A: एक्शन, कॉमेडी

निर्देशक: अनीस बज्मी

कास्ट: जॉन अब्राहम, अरशद वारसी, इलियाना डीक्रूज, अनिल कपूर, पुलकित सम्राट, कृति खरबंदा, उर्वशी रौतेला, सौरभ शुक्ला

गलत कास्टिंग, कमजोर कथानक

उनकी नई फिल्म पागलपंती, मजेदार नहीं है। बज्मी ने भरोसेमंद अभिनेताओं को कास्ट किया है। इसलिए जब आप अनिल कपूर, सौरभ शुक्ला और अरशद वारसी जैसे बेजान किरदारों से कुछ पागलपन करने का भरोसा कर करने लगते हैं, तो जॉन अब्राहम, पुलकित सम्राट और उर्वशी रौतेला फ्रेम में जगह भरते हुए दिखते हैं कि कैसे गलत कास्टिंग पहले से ही कमजोर कथानक को और उबाऊ बनाता है।

हंसने के मौके कम   

जाॅन ने अपने इंटरव्यूज में कहा है कि वह अपनी देशभक्तिपूर्ण भूमिकाओं से ब्रेक लेना चाहते थे और पगलपंती से बेहतर वेकेशन नहीं हो सकता था, लेकिन यह देखते हुए कि बॉक्स ऑफिस पर राष्ट्रवाद निर्माताओं को मोटी रकम की गारंटी कैसे दे रहा है, बज्मी ने नीरज मोदी नामक एक फ्रॉड की कहानी गढ़ी और हमें आपको यह बताने की जरूरत नहीं है कि जोक किस पर है। कुल मिलाकर तीन बार हंसी आती है, वह भी दो बार बिना किसी कारण के।

दो गरजते शेर

हमें ऐसे संवाद मिलते हैं, 'आप अपने देश को छोड़ सकते हैं, लेकिन देश आपको कभी नहीं छोड़ेगा। यह ठीक है अगर हम राष्ट्र के लिए अपनी जान गंवा देते हैं।' जानवरों के लिए फिल्म निर्माता का आकर्षण जारी है - अगर नो प्रॉब्लम में एक गोरिल्ला था, तो पागलपंती में दो गरजते हुए शेर हैं, जिन्हें अरशद सिम्बा और सिंघम कहकर बुलाते हैं। यह दृश्य हंसी को बढ़ाता है लेकिन जैसा कि ऊपर कहा गया है सभी गलत कारणों से। मुझे कभी भी उम्मीद नहीं थी कि मैं किसी कॉमेडी फिल्म में उन दृश्यों के दौरान हंस सकता हूं जो गंभीर होने वाले हैं।

कॉमेडी की डोज

आज के कॉमेडीज के साथ समस्या यह है कि उन्हें लगता है कि वे कास्ट और कैनवास के साथ काम चला सकते हैं और पोस्टर पर फनी चेहरे बनाने से यह विश्वास पैदा होगा कि उन्होंने परिवारों के लिए एक मनोरंजक फिल्म बनाई है। ऐसे कॉमेडी में भाग लेने वाले अभिनेता आमतौर पर साक्षात्कार में कहते हैं और सोशल मीडिया पर लिखते हैं कि कैसे उनकी फिल्में आलोचकों के लिए नहीं हैं और दर्शकों से घर पर अपने दिमाग छोड़ आने का अनुरोध करते हैं। मैंने ठीक यही किया, किसी भी तर्क को लागू नहीं किया, मैं जो चाहता था वह हंसी थी ... वह कहां है? अब मुझे किससे बात करनी चाहिए?

रेटिंग: 1.5

Bala Movie Review: दर्शकों को बाल-बाल बचाया आयुष्मान ने

Posted By: Vandana Sharma

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk