दिव्य एवं भव्य कुंभ की थीम पर इलाहाबाद नगर को सजाने की तैयारी

योजना को अनुभवी चित्रकारों से जोड़कर व्यापक बनाने की तैयारी

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: कुंभ में आने वाले पर्यटकों को प्रयाग की ऐतिहासिकता और पौराणिकता से 'पेंट माई सिटी' योजना रूबरू कराएगी. योजना की शुरुआत कुछ दिनों पहले हो चुकी है. अब इसे प्रोफेशनल तरीके से आगे बढ़ाने के लिए संस्थाओं को शामिल किया जा रहा है. शनिवार को चार संस्थाओं ने कमिश्नर और डीएम की मौजूदगी में अपना प्रजेंटेशन दिया. उन्होंने बताया कि भित्ति चित्र, मूर्तिकला और चित्रकारी से शहर को खूबसूरत बनाया जा सकता है. हालांकि अब तक संगम क्षेत्र में बांध से सटी कई ईमारतें, इलाहाबाद विश्वविद्यालय के ललित कला संकाय के चित्रकारों द्वारा सजाई जा चुकी हैं.

इन्होंने दिया प्रजेंटेशन

कमिश्नर कार्यालय में शनिवार को गठित समिति ने चार कम्पनियों का प्रजेंटेशन देखा. जिनमें कमिश्नर डॉ. आशीष गोयल, डीएम सुहास एलवाई, मेलाधिकारी विजय किरन आनंद समेत तमाम अधिकारियों ने अपनी राय दी.

देखा तो मुंह से निकला वाह

संस्थाओं ने विभिन्न शहरों में किए गए अपने कार्यो का प्रजेंटेशन दिया. इसमें दिल्ली में अपने द्वारा विकसित लोधी आर्ट डिस्ट्रिक, हैदराबाद में मक्ता, मुम्बई में माहिम आर्ट डिस्ट्रिक के रूप में बड़ी बिल्डिगों के कैनवास पर अपना आकर्षक कार्य दिखाया. इसमें दिल्ली पुलिस हेडक्वाटर के भवन की दीवारों को आधार बनाकर महात्मा गांधी का 120 फुट ऊंचा चित्र तथा मुम्बई की एमटीएनएल बिल्डिंग पर फाल्के का चित्र उल्लेखनीय था. इसी प्रकार कलरोत्थान नामक संस्था ने अपने प्रजेंटेशन में लखनऊ के इन्वेस्टर समिट में दिवारों पर चित्रकारी तथा लोहिया पार्क में किए गए अपने कार्य का प्रदर्शन किया. एक अन्य संस्था कलाकारा ने बंग्लुरू में किए गए कार्य प्रदर्शित किए. स्टोनर ने वाराणसी में अपने द्वारा निर्मित आशापुर पाषाण स्तम्भ और गोदौलिया चैराहे पर नंदी पिलर के रूप में स्टोन वर्क दिखाया.