इस्लामाबाद (पीटीआई)। एविएशन अथॉरिटी के सूत्रों ने कहा कि दक्षिणी सिंध प्रांत के चौर इलाके में विमान को खराब मौसम का सामना करना पड़ा। द न्यूज इंटरनेशनल की रिपोर्ट के मुताबिक जहाज में 150 यात्री सवार थे और गुरुवार को कराची के ऊपर से उड़ान भर रहा था, जब उसका सामना आसमानी बिजली से हुआ और अचानक 36 हजार फीट की ऊंचाई से 34 हजार फीट पर आ गया। नतीजतन, पायलट ने इमरजेंसी प्रोटोकॉल शुरू किया और नजदीकी स्टेशनों को 'संदेश प्रसारित किया 'मेडे'।

एयर ट्रैफिक कंट्रोलर ने दिया कॉल का जवाब  

पाकिस्तान के एयर ट्रैफिक कंट्रोलर ने पायलट के कॉल का जवाब दिया और इसे पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र में शेष यात्रा के लिए घने हवाई यातायात के बीच से रास्ता बनाने में मदद की।

 

पांच महीने बाद खोला भारत के लिए अपना हवाई क्षेत्र

पाकिस्तान ने साल की शुरुआत में नई दिल्ली के साथ गतिरोध के मद्देनजर पांच महीने के प्रतिबंध के बाद 16 जुलाई को भारत के लिए अपना हवाई क्षेत्र खोला था। बालाकोट हवाई हमले के बाद, पाकिस्तान ने 26 फरवरी को अपना हवाई क्षेत्र बंद कर दिया था।

पीएम मोदी के विमान को नहीं दी अनुमति

पाकिस्तान ने पिछले महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वीवीआईपी उड़ान को सऊदी अरब की अपनी यात्रा के लिए अपने हवाई क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति देने के भारत के अनुरोध से इनकार कर दिया था। पाकिस्तान ने भारत के साथ 5 अगस्त को राजनयिक संबंधों को डाउनग्रेड कर दिया जब नई दिल्ली जम्मू-कश्मीर को दिए गए विशेष दर्जे को रद्द कर दिया और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में बदल दिया।

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

International News inextlive from World News Desk