इस्लामाबाद (पीटीआई)। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने मंगलवार को उनके खिलाफ चल रहे दो भ्रष्टाचार के मामलों में खराब सेहत के आधार पर जमानत लेने के लिए इस्लामाबाद उच्च न्यायालय (आईएचसी) का दरवाजा खटखटाया। इस्लामाबाद के एक अस्पताल में इलाज करा रहे जरदारी ने जमानत याचिका में कहा है कि वह दिल की बीमारी के साथ-साथ मधुमेह से भी पीड़ित हैं और उन्हें मेडिकल केयर की जरूरत है। बता दें कि जरदारी की बहन फरयाल तालपुर, जो राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) की हिरासत में है, उन्होंने भी आईएचसी से जमानत का अनुरोध किया है, जिसमें तर्क दिया है कि वह एक विकलांग बच्चे की मां है और उन्हें उसकी देखभाल करनी है।

दूसरी शादी पर बोले जरदारी, बेनजीर के लिए ही जियेंगे और मरेंगे


10 जून को किया गया था गिरफ्तार

बता दें कि 2008 से 2013 तक पाकिस्तान के राष्ट्रपति रहे जरदारी को एनएबी ने फर्जी बैंक खातों के मामले में जमानत अर्जी खारिज होने के बाद 10 जून में गिरफ्तार किया था। उन्हें 22 अक्टूबर को रावलपिंडी की अदियाला जेल से पाकिस्तान इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस लाया गया था, जहां अभी भी उनका इलाज चल रहा है। बताया जा रहा है कि जरदारी पहले जमानत याचिका दायर नहीं करना चाहते थे लेकिन सोमवार को बेटे बिलावल और बेटियां आसिफा व बख्तावर से मिलने के बाद खराब स्वास्थ्य के आधार पर जमानत लेने के लिए राजी हो गए। बता दें कि कुछ दिनों पहले ही भ्रष्टाचार मामला में सजा काट रहे पूर्व पीएम नवाज शरीफ को बेहतर इलाज के लिए विदेश जाने की इजाजत मिली थी।

Posted By: Mukul Kumar

International News inextlive from World News Desk