यूनाइटेड नेशंस (पीटीआई)। भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कश्मीर मुद्दे को उठाने की कोशिश में पाकिस्तान को फिर से पटकनी दी है। वह किसी भी समर्थन को पाने में एक बार और विफल हो गया है। नई दिल्ली ने कहा कि भारत के साथ सामान्य संबंध सुनिश्चित करने के लिए इस्लामाबाद को उन कठिन कामों पर ध्यान देने की जरूरत है, जिन्हें संबोधित करना है। सुरक्षा परिषद में कश्मीर के मुद्दे पर चीन और पाकिस्तान सिर्फ एक साथ खड़े थे। हालांकि, दोनों मिलकर अन्य सदस्य देशों का समर्थन पाने में नाकाम रहे। सभी देशों ने यह साफ कर दिया कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय मामला है। दिन की शुरुआत में चीन ने सुरक्षा परिषद परामर्श कक्ष में बंद परामर्श के दौरान अन्य मामलों के तहत कश्मीर मुद्दे को उठाने के लिए नया पैंतरा अपनाया।

समर्थन जुटाने में विफल रहे चीन और पाकिस्तान

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने कहा, 'हमने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र के एक सदस्य देश द्वारा किए गए प्रयास को देखा, जो अन्य सदस्यों का समर्थन जुटाने में विफल रहा। हम खुश हैं कि न तो पाकिस्तान के प्रतिनिधियों द्वारा बनाया गया परिदृश्य और न ही संयुक्त राष्ट्र के मंचों पर पाकिस्तान के प्रतिनिधियों द्वारा बार-बार लगाए गए किसी भी बेबुनियाद आरोपों को आज विश्वसनीय पाया गया। हमें खुशी है कि प्रयास को एक व्याकुलता के रूप में देखा गया है, वहीं कई दोस्तों ने यह समझा कि ऐसे मुद्दों को भारत और पाकिस्तान आपस में बातचीत कर सुलझा सकते हैं।'

यूरोपीय राजनयिक ने कश्मीर को बताया घरेलु मामला

एक शीर्ष यूरोपीय राजनयिक ने कहा कि इस मुद्दे को द्विपक्षीय रूप से हल किया जाना चाहिए और यह एक 'घरेलू मामला' है। अकबरुद्दीन ने आगे कहा, 'पाकिस्तान ने मंसूबों को सफल बनाने वाले विकृतियों को दूर करने के लिए झूठे बहाने का इस्तेमाल करने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि पाकिस्तान आज यहां भेजे गए स्पष्ट संकेतों पर ध्यान देता है और भारत के साथ सामान्य संबंधों को सुनिश्चित करने के लिए उसके द्वारा किए जाने वाले कठिन कार्यों पर ध्यान केंद्रित करता है।' इसके अलावा, बैठक से बाहर आते हुए, चीनी राजदूत झांग जून ने कहा, 'हमने जम्मू-कश्मीर पर एक बैठक की। और मुझे यकीन है कि आप सभी जानते हैं कि पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने सुरक्षा परिषद को पत्र लिखकर जम्मू और कश्मीर में वर्तमान स्थिति पर ध्यान देने को कहा है। भारत और पाकिस्तान का मुद्दा हमेशा सुरक्षा परिषद के एजेंडे में रहा है और आज हमने कुछ तनावों को भी देखा है, इसलिए सुरक्षा परिषद ने एक संक्षिप्त जानकारी दी और इसने सचिवालय से जमीन पर वर्तमान स्थिति के बारे में जानकारी दी।। सदस्यों ने उस पर विचारों का आदान-प्रदान किया।'

Posted By: Mukul Kumar

International News inextlive from World News Desk