इस्लामाबाद (आईएएनएस)। पाकिस्तान की सत्तारूढ़ इमरान खान सरकार ने अपने कार्यकाल के पहले साल में ही पैसे उधार लेने के पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, वर्तमान सरकार के एक साल के शासन के दौरान देश के कुल कर्ज में 7,509 अरब (पाकिस्तानी करेंसी) वृद्धि दर्ज की गई।

घरेलू स्रोतों से 4,705 अरब रुपये उधार लिए

पाकिस्तानी मीडिया में चल रही एक रिपोर्ट में, सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान ने कहा इस उधार डेटा को प्रधानमंत्री कार्यालय को भेज दिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि अगस्त 2018 और अगस्त 2019 के बीच, सरकार ने विदेशी स्रोतों से 2,804 अरब रुपये और घरेलू स्रोतों से 4,705 अरब रुपये उधार लिए हैं।

सार्वजनिक कर्ज  में 1.43 प्रतिशत का इजाफा

स्टेट बैंक के आंकड़ों के अनुसार, चालू वित्त वर्ष के शुरुआती दो महीनों में ही पाकिस्तान के सार्वजनिक कर्ज  में 1.43 प्रतिशत का इजाफा हुआ। संघीय सरकार का कर्ज 32,240 अरब रुपये तक पहुंच गया है। जो पिछले साल अगस्त में 24,732 अरब रुपये था। रिपोर्ट में कहा गया है कि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में सरकार का कर संग्रह 960 अरब रुपये था जबकि लक्ष्य 1 ट्रिलियन रुपये का था।

Posted By: Shweta Mishra

International News inextlive from World News Desk