HARIDWAR: पंचक आज से शुरू हो रहे हैं. जो पांच दिन यानी 24 जुलाई तक चलेंगे. धार्मिक मान्यता के अनुसार पंचकों में काष्ठ खरीदना निषिद्ध है, कुछ लोग इसे कांवड़ उठाना निषिद्ध बताते हैं. इसलिए इन पांच दिनों में कम कांवड़ यात्री हरिद्वार पहुंचेंगे. हालांकि थर्सडे को करीब पांच लाख कांवड़ यात्री हरिद्वार पहुंचे. जबकि पहले दिन 17 जुलाई को करीब सात लाख कांवड़ यात्री गंगा जल लेने हरिद्वार आए थे.

पंचक में बांस से बनी वस्तुओं की खरीद को माना गया है निषेध
पंचक में बांस से बनी वस्तुओं को खरीदना निषेध माना गया है. साथ ही, दक्षिण दिशा में यात्रा करने से शिवभक्त गुरेज करते हैं. पंचक में शिवभक्तों के हरिद्वार आने का क्रम जारी रहेगा, लेकिन वापसी में इसका असर पड़ेगा. हरिद्वार से नई कांवड़ लेकर जाने वाले शिवभक्त पंचक समाप्ति के बाद ही नई कांवड़ लेकर हरिद्वार से रवाना होंगे. ज्योतिषाचार्य पंडित शक्तिधर शास्त्री ने बताया कि पंचक में बांस से बनी वस्तुओं को खरीदना निषेध माना गया है. इसलिए शिवभक्त पंचक के दौरान बांस से बनी नई कांवड़ नही खरीदते. बताया कि पंचक के दौरान शिवभक्त पुरानी या पंचक से पहले खरीदी कांवड़ उठाकर अपने गंतव्यों को जा सकते हैं.