झुग्गियों में आग लगने पर भड़का बवाल, उपद्रवियों ने रोडवेज बस में की लूटपाट

बवालियों ने की पुलिस टीम के साथ मारपीट, हथियार और वायरलेस सेट तक छीना

दिल्ली रोड पर एक घंटे तक उपद्रव, उपद्रवियों ने पुलिस व आम पब्लिक पर की फायरिंग

meerut@inext.co.in

MEERUT : भूसा मंडी में अतिक्रमण हटाने के विरोध में आगजनी व फायरिंग हुई. नाराज भीड़ ने पुलिस के हथियार व वायरलेस सेट छीन लिए. इसके बाद उपद्रवियों ने रोडवेज बस में सवार यात्रियों के साथ मारपीट, लूटपाट व पथराव करते हुए आग लगाने का प्रयास किया. आनन-फानन में डीएम व एसएसपी ने सीआरपीएफ, पीएसी व कई थानों की फोर्स के साथ मौके का जायजा लिया. आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए सर्चिग अभियान चलाया.

 

यह है मामला

कैंट बोर्ड के अंतर्गत भूसा मंडी स्थित शांति फार्म हाउस के पीछे कैंट बोर्ड की जमीन पर 150 से ज्यादा लोगों ने वहां पर अवैध कब्जा करके अपनी झुग्गियां बना रखी हैं. बुधवार को शाम करीब चार बजे कैंट बोर्ड की टीम सदर पुलिस को लेकर भूसा मंडी स्थित झुग्गियों को तोड़ने के लिए गई थी. जैसे ही कैंट बोर्ड की टीम ने झुग्गियां हटाने का प्रयास किया तो वहां पर कई लोग एकत्रित हो गए. उनकी पुलिस के साथ नोकझोंक हो गई. इसी दौरान झुग्गी-झोपड़ी में आग लग गई. देखते ही देखते डेढ़ सौ से ज्यादा झुग्गियां जलकर राख हो गई. आग लगते ही चारों तरफ चीख पुकार मच गई.


पुलिस पर आरोप

आग की सूचना पर हजारों लोग दिल्ली रोड महताब सिनेमा के पास पहुंच गए. उन्होंने पुलिस पर आग लगाने का आरोप लगाते हुए पुलिस टीम को घेर लिया. उनके साथ मारपीट करते हुए राइफल व वायरलेस सेट छीन लिया. छीनाझपटी में कई पुलिसकर्मियों की वर्दी फट गई, मामला बढ़ता देख पुलिसकर्मी जान बचाकर भाग निकले.

 

यात्रियों से लूटपाट

पुलिस की कार्रवाई के नाराज विशेष समुदाय के हजारों लोग महताब सिनेमा के सामने खड़े हो गए और दिल्ली रोड को जाम कर दिया. यही नहीं पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते हुए रोडवेज बसों व कारों में पथराव कर दिया. इसके बाद भीड़ ने रोडवेज में सवार यात्रियों से लूटपाट भी की.

 

जिंदा जलाने का प्रयास

उपद्रवियों ने रोडवेज ड्राइवर सुशील व कंडक्टर से रुपयों का बैग छीनते हुए उसके ऊपर पेट्रोल डालकर जिंदा जलाने का प्रयास किया. यही नहीं उपद्रवियों ने तकरीबन 20-25 रोडवेज बसों व कारों में लूटपाट की. बस में सवार यात्री किसी तरह जान बचाकर भाग निकले. वहीं, गुस्साई भीड़ के सामने डीएम अनिल ढींगरा व एसएसपी नितिन तिवारी काफी देर तक खड़े रहे. इसके बाद मौके पर पहुंची सीआरपीएफ व पीएसी समेत कई थानों की फोर्स मौके पर पहुंची. इसके बाद भूसा मंडी में सर्चिग अभियान चलाया.

 

उम्र बीत जाती है एक घर बनाने में, लोग तरस नहीं खाते है बस्तियां जलाने में..

झुग्गी-झोपडि़यों से उठती लपटों को देख सीसीएसयू में उदर्ृ विभाग के प्रोफेसर बशीर बद्र साहब का वह शेर याद आ गया. बस्ती में लगी आग इतनी भयंकर थी कि चार घंटे बाद भी आग पर काबू नहीं पाया गया. आग के चलते आसपास के कई मोहल्ले खाली करवा लिए गए. एसएसपी नितिन तिवारी का कहना है कि आग के लगने का कारण पता लगाया जा रहा है.

 

मचती रही चीख पुकार

झुग्गियों में आग लगने से वहां पर चारों तरफ चीख पुकार मच गई. सैकड़ों की तादाद में लोग आग में फंस गए. लोग अपनी जान बचाने के लिए इधर-उधर भागते रहे. आग लगने से बीस से ज्यादा महिलाएं व बच्चे भी झुलस गए. लोगों ने आरोप लगाया कि सदर थाने में तैनात फैंटम पुलिस ने उनकी बस्ती में आग लगाई है. इसीलिए भीड़ बेकाबू हुई और पब्लिक व पुलिस के साथ मारपीट, फायरिंग की. उपद्रव होते ही कैंट बोर्ड के अधिकारी किसी तरह से अपनी जान बचाकर भाग लिए.

 

पेट्रोल बम का इस्तेमाल

गुस्साई भीड़ ने पुलिस पर पेट्रोल बमों से हमला किया, जिससे दो पुलिस कर्मी झुलस गए. मौके से काफी तादाद में कांच की बोतले भी पुलिस ने बरामद कीं.


150 झुग्गियां राख

फायर ब्रिगेड का कहना है कि करीब आग से 150 से ज्यादा झुग्गियां जलकर राख हो गई. कई व्यक्ति भी झुलस गए हैं, लेकिन अभी कुछ पता नहीं चल पा रहा है.

 

फायर टैंकर को रोका

आसपास के लोगों ने फायर टैंकर को आग बुझाने नहीं दी, जिससे आग ने भयंकर रूप धारण किया. अगर फायर ब्रिगेड जल्द आग बुझा लेती तो नुकसान को कम किया जा सकता था.

 

घनघनाते रहे फोन

शहर में आगजनी व पथराव की सूचना तेजी के साथ फैल गई. घटना को जानने के लिए लोग एक-दूसरे से फोन पर जानकारी हासिल करते रहे.

 

डायवर्ट किया ट्रैफिक

दिल्ली रोड पर बसों में तोड़फोड़ की सूचना से शहर में ट्रैफिक डायवर्ट कर दिया गया. दिल्ली रोड घंटाघर से ट्रैफिक को रेलवे रोड की तरफ से निकला गया. बेगमपुल से आने वाले वाहनों को आबूलेन की तरफ से निकाला गया.

 

मिनटों में बंद हुआ बाजार

महताब सिनेमा के पास तोड़फोड़ होते ही केसरगंज तथा आसपास के दुकानदार अपनी दुकानों के शटर गिराकर वहां से भाग निकले. देखते ही देखते मिनटों में पूरा बाजार बंद हो गया.

 

गलियों से किया पथराव

महताब सिनेमा के पास रहने वाले हजारों लोगों ने गलियों से पुलिस पर पथराव व फायरिंग की, जिस पर पुलिस ने वहां से भागकर अपनी जान बचाई.

 

आग कैसे लगी या किसने लगाई. इसके लिए डीएम की तरफ से कमेटी गठित कर दी गई है. जिसने भी पथराव व लूटपाट की है, वे चिह्नित किय जा रहे हैं. सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा.

नितिन तिवारी, एसएसपी