- प्रदेश में सोलर एनर्जी में 2000 करोड़ का निवेश कर रही एम्प्लस सॉल्यूशन के सीओओ गुरु इंदर मोहन सिंह ने दैनिक जागरण आईनेक्स्ट से की बात

- कहा, प्रदेश में सोलर एनर्जी की विशाल संभावनाएं

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : 'यूपी में ग्रीन और क्लीन एनर्जी यानि सोलर एनर्जी का हब बनने की सभी संभावनाएं हैं, जल्द ही यह जमीन पर भी दिखने लगेगा' यह कहना है एम्प्लस सॉल्यूशन के सीओओ गुरु इंदर मोहन सिंह का. उनकी कंपनी सोलर एनर्जी सेक्टर में पहले फेज में 250 करोड़ और अगले तीन साल में 2000 करोड़ का निवेश करेगी. पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा अपने उद्बोधन में सोलर एनर्जी की महत्ता को आगे बढ़ाते हुए सिंह ने कहा कि यूपी में सरकार की नीति और समर्थन की वजह से निवेश का माहौल बेहतर हुआ है. यही वजह है कि एमओयू साइन करने के पांच महीने के भीतर ही उनका पहले फेज का प्रोजेक्ट काफी हद तक तैयार है.

उद्योगों को करेंगे ग्रीन एनर्जी की आपूर्ति
गुरु इंदर मोहन सिंह ने बताया कि मिर्जापुर में पहले फेज के तहत तैयार हो रहे उनके 50 मेगावॉट के प्रोजेक्ट प्रदेश में पर्यावरण के प्रति संवेदनशील उद्योगों को ग्रीन एनर्जी की आपूर्ति करेगा. उन्होंने बताया कि यूपी में उद्योग लंबे समय से रीन्यूएबल एनर्जी प्रोजेक्ट्स से सीधे खरीद करना चाहते हैं, ताकि वे अपना कार्बन फुटप्रिंट कम कर सकें. उन्होंने बताया कि सौर नीति में बदलाव की वजह से अब उद्योगों को मनमुताबिक पावर खरीदने की छूट मिली है. जिससे सोलर एनर्जी के प्रोजेक्ट्स को प्रोत्साहन मिल सकेगा साथ ही पर्यावरण को भी फायदा पहुंच सकेगा.

पावर सेक्टर के साथ मिलकर करेंगे काम
एम्प्लस के वाइस प्रेसीडेंट आलोक वर्मा ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने सोलर एनर्जी के व्यापार के लिये एक मजबूत नीति आधार प्रदान किया है. नीति के मुख्य तत्व सोलर डेवलपर्स को ग्राहकों की उपलब्धता पर प्रोत्साहन (ओपन एक्सेसस), सिंगल विंडो सिस्टम, प्रत्यक्ष बिक्री की अनुमति दे रहे हैं. आलोक ने आगे कहा हालांकि, कंज्यूमर्स को लर एनर्जी की निर्बाध बिक्री के नियमों में कुछ अंतर है, जिसके लिये हम यूपीईआरसी, यूपी पावर कॉरपोरेशन, स्टेट डिस्को, यूपीएनईडीए और अन्य एजेंसियों के साथ काम करने की उम्मीद करते हैं.