लंदन (एएनआई)। ब्रिटेन की एक अदालत ने भगोड़े नीरव मोदी की जमानत याचिका को इस आधार पर खारिज कर दिया है कि वह पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के 13,500 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग मामले में आरोपी है। बता दें कि नीरव मोदी के वकील ने कोर्ट जमानत के लिए 4 मिलियन पाउंड और हाउस अरेस्ट की पेशकाश की  लेकिन इसके बावजूद जज ने बुधवार को मोदी की जमानत याचिका को खारिज कर दिया। यहां तक नीरव मोदी ने यह भी कहा कि वह 12 घंटे के लिए सुरक्षा कर्मी रखने के लिए तैयार है और सुरक्षा टैग भी पहनने को तैयार है लेकिन फिर अदालत ने उसकी एक नहीं सुनी। यह चौथी बार अदालत में नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज हुई है। इसी बीच मोदी ने धमकी दी है कि अगर उसे भारत में प्रत्यर्पित किया गया तो वह आत्महत्या कर लेगा।

नीरव मोदी ने कनाडियाई युवक को 1.5 करोड़ रुपये में बेची नकली हीरे की अंगूठी, टूट गई सगाई

अब 4 दिसंबर को होगी अगली सुनवाई

लंदन की अदालत में अब इस मामले में अगली सुनवाई 4 दिसंबर को होने वाली है। पीएनबी लोन डिफॉल्ट मामले में मोदी और उसका भतीजा मेहुल चोकसी मुख्य आरोपी हैं। घोटाला सामने आने से पहले दोनों पिछले साल जनवरी में देश छोड़कर भाग गए थे। 48 वर्षीय मोदी को 19 मार्च को स्कॉटलैंड यार्ड ने इस मामले के सिलसिले में गिरफ्तार किया था और फिलहाल वह दक्षिण-पश्चिम लंदन में वैंड्सवर्थ जेल में बंद है। वह भारतीय जांच एजेंसियों और अदालतों से बार-बार समन भेजने के बावजूद भारत नहीं लौटा है।भारत आर्थिक अपराधों के लिए भूमि के कानून का सामना करने के लिए उसके प्रत्यर्पण की मांग कर रहा है।

Posted By: Mukul Kumar

International News inextlive from World News Desk