बिना गार्ड एटीएम पर पुलिस की नजर, बैंक अधिकारियों से पुलिस करेगी बात

एटीएम की सुरक्षा को लेकर की जाएगी मीटिंग, बैंक की तरफ से नहीं की जाती है सुरक्षा

इंश्योरेंस होने के चलते बैंक अधिकारी नहीं रखते सिक्योरिटी गार्ड

आगरा. शनिवार की रात चोरों ने किरावली से पूरे एटीएम को ही उठा लिया. 15 किमी दूर लाकर उसमें से 1.7 लाख रुपये निकाल ले गए. चोरों के लिंक रोड से भागने की आशंका बनी. फुटेज में एक संदिग्ध कार भी दिखाई दी है. इस घटना के बाद से पुलिस ने सिटी के एटीएम पर नजर रखनी शुरु कर दी है.

इंश्योरेंस का उठाते हैं लाभ

एटीएम के साथ छेड़छाड़ की यह कोई पहली घटना नहीं है. पहले भी विभिन्न थाना क्षेत्रों में इस तरह की वारदातें हुई हैं. इसके बाद भी बैंक अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं देते. वारदात होने के बाद पुलिस के पसीने छूट जाते हैं. कैश रिकवरी भी नहीं हो पाती लेकिन बैंक प्रबंधन को इस बात की कोई चिंता नहीं होती. चूंकि एटीएम का इंश्योरेंस होता है.

स्कीमर भी लगाए जाते हैं

एटीएम को तोड़ कर कैश पार करने वाले शातिरों के अलावा साइबर क्रिमीनल के निशाने पर भी बिना गार्ड के एटीएम रहते हैं. जिससे वह आसानी से वहां पर स्कीमर लगा कर लोगों के एटीएम कार्ड का डेटा चोरी कर सके. मई 2018 में संजय प्लेस स्थित पोस्ट ऑफिस के एटीएम से छेड़छाड़ का मामला प्रकाश में आया था. शातिरों ने उसमें स्कीमर लगा कर करीब 1 दर्जन लोगों का डेटा चोरी कर लिया था.

पुलिस ने डाले थे ताले

एटीएम से छेड़छाड़ की घटनाओं को देखते हुए 2016 में तत्कालीन एएसपी अनुराग वत्स ने हरीपर्वत सर्किल स्थित बिना गार्ड के एटीएम पर ताले डलवा दिए थे. यह व्यवस्था इसके बाद पूरे जिले में लागू की गई. इससे रात में एटीएम से होने वाली घटनाओं पर अंकुश लग गया. लेकिन इससे बैंक प्रबंधन पर कोई फर्क नहीं पड़ा बल्कि पुलिस की नई ड्यूटी लग गई. पुलिस रोड रात में जाकर ताले डालती और सुबह ताले खोलने जाती.

अधिकारियों के साथ करेंगे मीटिंग

एसपी सिटी प्रशांत वर्मा के मुताबिक एटीएम की सुरक्षा बहुत जरुरी है. शहर में ऐसे एटीएम को देखा जाएगा जिन पर सिक्योरिटी गार्ड नहीं है. इस मामले में बैंक प्रबंधन से भी बात की जाएगी जिससे बैंक की तरफ से सभी एटीएम पर सुरक्षा गार्ड की तैनाती की जा सके. सभी थाना क्षेत्रों को भी एटीएम की सुरक्षा को बोला गया है. रात में एटीएम की तरफ गश्त भी लगाई जाए.