थाना हरीपर्वत में व्यापारियों का धरना प्रदर्शन

मीटिंग का आश्वासन देने के बाद नहीं पहुंचे एएसपी

अवैध पार्किंग के खिलाफ चलेगा पोस्टर अभियान

ठेकेदारों की व्यापारियों को धमकी लगवा देंगे मुकदमे

आगरा। संजय प्लेस में पार्किंग से अवैध वसूली का विरोध करना संजय प्लेस वेलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारियों को भारी पड़ गया। सोमवार को पार्किंग का विरोध करने पर चौकी पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारियों को पकड़कर हरीपर्वत थाने ले गई। जैसे ही इसकी जानकारी एसोसिएशन के अन्य सदस्यों को हुई तो वे सैकड़ों की संख्या में थाने पहुंच गए। विरोध में व्यापारियों ने धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। बाद में पुलिस को उन्हें छोड़ना पड़ा। बाद में एएसपी हरीपर्वत द्वारा व्यापारियों के साथ मीटिंग का भरोसा दिलाया, लेकिन वे नहीं पहुंचे।

व्यापारी अब चलाएंगे पोस्टर अभियान

संजय प्लेस वेलफेयर एसोसिएशन के सचिव हीरेन अग्रवाल ने बताया कि संजय प्लेस के सभी व्यापारी पार्किंग के विरोध के पोस्टर अभियान चलाएंगे। अवैध पार्किंग का विरोध सभी व्यापारी और दुकानदार मिलकर करेंगे। वाहनों पर पोस्टर चस्पा किए जाएंगे। लोगों से अपील की जाएगी, कि वे अवैध पार्किंग का शुल्क न दें। इसका विरोध करें। इसे आन्दोलन का रूप दिया जाएगा।

पुलिस पर कार्रवाई की मांग

संजय प्लेस वेलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने होटल पंचरत्न में मीटिंग कर एक राय से प्रस्ताव पास किया। संजय प्लेस चौकी प्रभारी और जो कांस्टेबल व्यापारियों को पकड़ कर ले गए, उनका चौकी से ट्रांसफर किया जाए। एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने बताया कि एएसपी हरीपर्वत को मीटिंग में आना था, लेकिन कुछ जरूरी काम होने की वजह से उन्होंने मीटिंग में आने पर असमर्थता जता दी।

ठेकेदारों ने दी धमकी

एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने बताया कि ठेकेदारों ने पार्किंग में लडकियों को बैठा दिया है। धमकी दी है कि अगर विरोध किया तो लड़कियों से छेड़छाड़ का मुकदमा लगवा देंगे।

भाजपा विरोध के लगाए पोस्टर

संजय प्लेस पार्किंग से अवैध वसूली के विरोध में संजय प्लेस वेलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारियों और अन्य व्यापारियों ने भाजपा विरोधी पास्ेटर चस्पा कर दिए हैं। इसमें लिखा गया है कि संजय प्लेस में अवैध पार्किंग वसूली के खिलाफ हम भाजपा का विरोध करते हैं। निवेदक में संजय प्लेस वेलफेयर एसोसिएशन आगरा लिखा हुआ है। बता दें कि संजय प्लेस पार्किंग से संबंधित वाद वर्ष 2008 से कोर्ट में विचाराधीन है।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner