-वायरलेस सेट सूचना प्रसारित होने पर पुलिस प्रशासन के छूटे पसीने

-थाने की पुलिस व क्राइम ब्रांच की टीम ने लगाई दौड़

-100 नंबर पर झूठी सूचना देने वाले युवक को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR:  पुलिस अफसर गोरखनाथ मंदिर में खिचड़ी मेले की देखरेख में थे. इसी बीच दस बजे अचानक कंट्रोल रूम में सीएम की गाड़ी उड़ाने की खबर आ गई. वायरलेस सेट पर यह सूचना प्रसारित होते ही पुलिस अफसरों में हड़कंप मच गया. आनन-फानन में पुलिस ने मोबाइल नंबर के आधार पर दो युवकों को हिरासत में ले लिया.

कार से उड़ाने की योजना बना रहा
सूचना देने वाले ने फोन पर बोला कि खजनी के कनराई गांव निवासी लक्ष्मण यादव सीएम की गाड़ी को अपनी कार से उड़ाने की योजना बना रहा है. इसी सूचना पर सक्रिय हुई पुलिस ने सूचना देने वाले खोराबार के मर्हुईसुधरपुर निवासी मनोज मिश्रा को नंबर के आधार पर दोपहर करीब एक बजे फलमंडी के पास से पकड़ लिया. मनोज मूल रूप से बेलघाट के सिथौना का रहने वाला है. खोराबार थाने में पूछताछ में मनोज ने लक्ष्मण का फंसाने के लिए फोन किए जाने की बात कबूली है.

सूचना के बाद अमला सक्रिय
सूचना प्रसारित होने के बाद थाना पुलिस के अलावा क्राइम ब्रांच को भी सक्रिय कर दिया गया था. देर शाम लक्ष्मण की भूमिका न मिलने पर उसे छोड़ दिया गया. पुलिस ने इंस्पेक्टर खोराबार की तहरीर पर मनोज के खिलाफ झूठी सूचना देने और अफवाह फैलाने की धाराओं में केस दर्ज कर लिया गया है.

एक युवक की झूठी सूचना प्रसारित हुई कि सीएम की सुरक्षा पर खतरा है. सूचना मिलने के बाद पुलिस सक्रिय हो गई और सूचना देने वाले युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई. खोराबार इंस्पेक्टर की तहरीर पर मनोज के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है.
डॉ. सुनील गुप्ता, एसएसपी, गोरखपुर