क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: थाने के हाजत से या फिर जेल ले जाने के दौरान कैदी फरार हुए तो सिर्फ एएसआई और सिपाही जिम्मेदार नहीं होंगे, बल्कि संबंधित थाना के थानेदार को भी इस मामले में दोषी माना जाएगा. उन पर भी कार्रवाई की जाएगी. जांच रिपोर्ट के बाद उन्हें निलंबित भी किया जा सकता है. यह आदेश रांची एसएसपी अनीश गुप्ता ने दिया है. दरअसल, राजधानी रांची में अपराध के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं. आम जनता का भरोसा पुलिस पर से उठता जा रहा है. दूसरी तरफ पुलिस की लापरवाही से पकड़े गए अपराधी भी लगातार कोर्ट हाजत से फरार हो रहे हैं.

सुरक्षा पर भी सवाल

वहीं, सुरक्षा पर भी सवालिया निशान लग रहे हैं कि आखिर पुलिस इतनी गैर जिम्मेदार कैसे हो सकती है. कैसे कड़ी मेहनत के बाद पकड़े गए अपराधी पुलिस की पकड़ से फरार हो जा रहे हैं. पुलिस की लापरवाही को देखते हुए रांची एसएसपी अनीश गुप्ता ने अब इन मामलों को लेकर कड़ा निर्देश जारी किया है.

नहीं बख्शे जाएंगे लापरवाह

एसएसपी की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि थाने में पदस्थापित पुलिसकर्मी संबंधित थानेदार के दिशा निर्देश में काम करते हैं. किसी भी मामले में गिरफ्तार आरोपी को सुरक्षित रखना, उसे जेल भेजना थानेदार की जिम्मेवारी होती है. इसलिए कैदी के फरार होने के जितने जिम्मेवार सिपाही होंगे उतने ही दोषी थानेदार भी होंगे. सभी थानेदारों को निर्देश दिया गया है कि वो कैदियों को अपनी निगरानी में जेल तक पहुंचाएं. सुरक्षा में लापरवाही बरतने वालों को बख्शा नहीं जाएगा.

भाड़े की गाड़ी में कैदी नहीं

भाड़े की गाड़ी से कैदियों को जेल ले जाने पर रोक लगा दी गई है. एसएसपी ने थानेदारों को आदेश दिया है कि अगर आरोपियों को जेल ले जाने के लिए थाने में गाड़ी उपलब्ध नहीं है तो वो पुलिस केंद्र से गाड़ी प्राप्त करें. एसएसपी ने सीसीआर डीएसपी को थानेदार को प्राथमिकता के आधार पर वाहन उपलब्ध कराने का भी निर्देश जारी किया है.

........

हाल के दिनों में फरार कैदी

-13 जनवरी 2019 को जेल जाने के दौरान सदर थाने की पुलिस को चकमा देकर कांटा टोली चौक के पास ऑटो से कूदकर तीन कैदी फरार हो गए.

-18 दिसंबर को कोतवाली पुलिस को चकमा देकर सिविल कोर्ट से हथकड़ी के साथ आरोपी सत्येंद्र वर्मा फरार हो गया.

-18 जून 2018 को रिम्स में इलाजरत कैदी पिंटू चौहान पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया.

-19 मई 2018 को कार चोरी के मामले में धुर्वा से पकड़ा गया आरोपी दानिश जगन्नाथपुर थाना हाजत से फरार हो गया.

-16 मई 2018 को बुधराम उरांव रिम्स में इलाज के दौरान पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया.