पटना (ब्यूरो)। एके 47, ग्रेनेड और कारतूस के मामले में शुक्रवार को मोकामा के विधायक अनंत सिंह की बाढ़ कोर्ट में पेशी हुई. गौरतलब है कि विधायक के बाढ़ अनुमंडल के लदमा गांव स्थित पैतृक घर से एके 47, ग्रेनेड और कारतूस बरामद हुए थे.

कोर्ट कैंपस से बाहर तक सख्त पहरा

बेउर जेल में बंद विधायक को कड़ी सुरक्षा के बीच जेल से बाढ़ ले जाया गया. इस दौरान काफी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई थी. साथ ही बाढ़ कोर्ट परिसर के अंदर और बाहर चप्पे-चप्पे पर पुलिस का सख्त पहरा था. वहीं विधायक के समर्थक भी कोर्ट में पहले से ही डेरा जमाए हुए थे. जैसे ही पुलिस की गाड़ी अनंत सिंह को लेकर बाढ़ कोर्ट में दाखिल हुई उनके समर्थकों में से कुछ ने उनसे बात करने की कोशिश की पर सफल नहीं रहे. कोर्ट में पेशी के बाद उन्हें फिर भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बेउर जेल ले जाया गया. अदालत ने 21 नवंबर को सुनवाई की अगली तिथि मुकर्रर की है. ज्ञात हो कि विधायक के घर से बरामद एके 47 और विस्फोटक की बरामदगी को लेकर बाढ़ थाने में कांड संख्या 389/19 दर्ज किया गया था. फिलहाल इसी मामले में वे बेउर जेल में बंद हैं.

ऑडियो कांड पर रिमांड पर नहीं पाई सुनवाई

वहीं पंडारक निवासी भोला और उसके भाई मुकेश की हत्या की साजिश के मामले में वायरल हुए ऑडियो कांड में अनंत सिंह को रिमांड पर लेकर पूछताछ के लिए पुलिस कोर्ट में आवेदन दे चुकी है. लेकिन न्यायिक अधिकारी के अवकाश पर रहने के कारण इस पर सुनवाई नहीं हो पाई है. ज्ञात हो कि वायरल ऑडियो मामले में अनंत सिंह के वॉयस टेस्ट की फोरेंसिक साइंस लेबोरेट्री (एफएसएल) जांच रिपोर्ट में दो दर्जन शब्द मैच कर गए थे. इसके बाद पुलिस ने उन्हें रिमांड पर लेने के लिए कोर्ट में अर्जी दी थी. वायरल ऑडियो मामले में पंडारक थाने में कांड संख्या 75/19 दर्ज है. इसमें उनके करीबी लल्लू मुखिया और उसका भाई रणवीर यादव भी आरोपित है. इस कांड में दोनों जेल में बंद हैं.

patna@inext.co.in