- रात में चार-चार घंटे की कटौती से नींद भी पूरी नहीं कर पा रहे शहरवासी

- जनता में है आक्रोश, दफ्तरों से लेकर नुक्कड़ों तक कटौती पर रही चर्चा

फीरोजाबाद : सरकार लाख विद्युतापूर्ति में सुधार के दावे करे, लेकिन शहर की विद्युतापूर्ति पूरी तरह से लड़खड़ा गई है. दिन में होने वाली कटौती छोडि़ए, रात में भी लोगों को बिजली चैन की नींद नहीं सोने दे रही है. मुरादाबाद से होने वाली कटौती का वक्त बढ़ता ही जा रही है. मंगलवार की रात में होने वाली कटौती से समूचा शहर परेशान रहे. बुधवार को दफ्तरों में कर्मचारी भी परेशान नजर आए.

फीरोजाबाद में विद्युत कटौती बढ़ती जा रही है. टीटी जेड में 24 घंटे आपूर्ति का नियम है, लेकिन फीरोजाबाद में चार-चार घंटे की कटौती तो मुरादाबाद से की जा रही है. कटौती का वक्त बढ़ता ही जा रही है. पिछले सप्ताह रात में एक से दो घंटे की कटौती हो रही थी, लेकिन रविवार से बिजली विभाग ने तीन घंटे की कटौती शुरु कर दी. मंगलवार को दो किश्तों में चार घंटे की कटौती से शहर बेहाल हो गया. रात सवा 11 बजे करीब शहर सोया भी नहीं था, शहर की बिजली गुल हो गई. शहरवासियों ने बिजली अफसरों को फोन मिलाए तो फोन नहीं उठे. रात करीब पौने दो बजे करीब विद्युतापूर्ति सुचारू हुई. इस दौरान कई घरों मे इन्वर्टर भी जवाब दे गए. इधर सुबह छह बजे फिर से विद्युतापूर्ति गुल होने से शहरवासी परेशान हो गए. एक घंटे की कटौती के बाद सात बजे विद्युतापूर्ति सुचारू हुई.

इसके बाद दोपहर में भी विद्युत कटौती का सिलसिला थमा नहीं. दिन में भी फॉल्ट के नाम पर कभी एक घंटे तो कभी दो घंटे की हुई कटौती से शहरवासी परेशान रहे. रात में होने वाली कटौती का असर दिनचर्या पर भी पड़ रहा है. सरकारी दफ्तरों में भी कर्मचारी बुधवार को परेशान नजर आए. कर्मचारियों का यही कहना था देर रात तक दफ्तरों में काम करके घर पहुंचे तो बिजली नहीं रहती है. तीन रात से सो नहीं पा रहे हैं. आखिर ऐसे में कैसे काम होगा.

----------

रात भर परेशान रहे बच्चे, सुबह परेशान हुए अभिभावक :

वहीं छोटे-छोटे बच्चों के अभिभावकों की समस्या बढ़ गई है. बिजली न आने से बच्चे रात भर परेशान रहे. रात में बच्चों ने सोने नहीं दिया. इधर सुबह अभिभावकों को भी समस्या का सामना करना पड़ा. नींद पूरी न होने के कारण बच्चे स्कूल जाने में आना कानी करते हुए नजर आए. अभिभावकों ने रात में बिजली कटौती से निजात दिलाने की मांग की .