prayagraj@inext.co.in
PRAYAGRAJ: किन्नर अखाडे़ के विस्तार की प्रक्रिया जारी है. रविवार को कुम्भ मेला क्षेत्र में स्थित किन्नर अखाड़ा शिविर में भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस मौके पर अखाड़ा की ओर से दो महामंडलेश्वर और दो पीठाधीश्वर का पट्टाभिषेक किया गया. इसमें झारखंड की डॉ. योगेश्वरी मां और दिल्ली की बंटी को महामंडलेश्वर बनाया गया. जबकि प्रयागराज की टीना और कटनी की सरपंच दुर्गा मौसी को पीठाधीश्वर बनाया गया. किन्नर अखाडे़ की आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी महाराज ने कहा कि सनातन धर्म के प्रचार-प्रसार और विस्तार की अभी और जरूरत है.

सनातन धर्म के प्रचार को लेकर गंभीर
उन्होंने कहा कि किन्नर अखाड़ा सनातन धर्म और उसके प्रचार-प्रसार को लेकर बहुत गंभीर है. वह घर-घर लोगों को सनातन धर्म की परंपरा को एक बार फिर से नयी पीढी में ले जाकर उसका प्रचार-प्रसार करते हुए लोगों को जानकारी देना है. इस दौरान किन्नर अखाड़ा की उत्तर भारत की प्रभारी महामण्डलेश्वर भवानी मां, कमल मां, पूजा, कामिनी, पायल, वंशिका, पवित्रा, पुष्पा, प्रांचल सहित अन्य लोग अखाडे़ के एवं आचार्य रामसकल मिश्र थे.

किन्नर अखाडे का अमरत्व स्नान आज
किन्नर अखाड़ा की ओर से कुम्भ मेला प्रयागराज में आखिरी अमरत्व स्नान महाशिवरात्रि के अवसर पर होगा. अखाड़ा का अमरत्व स्नान दोपहर एक बजे संगम पर होगा. इस दौरान अखाड़ा के आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी महाराज सहित अखाडे़ के सभी संत-महात्मा और बडी संख्या में शिष्य शामिल होंगे. आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी ने कहा कि स्नान के दौरान किन्नर अखाड़ा की बऊचरा माता और आराध्य महादेव भगवान सबसे पहले स्नान करेंगे. इसके बाद किन्नर अखाडे़ के सभी संत-महात्मा शामिल होगे.