कुंभ मेला के दौरान टेंपो चालकों को वर्दी व आई कार्ड देने की है तैयारी

कुंभ मेला पुलिस ने बनाई योजना, कंपनियों व संगठनों से चल रही बात

ALLAHABAD: कुंभ मेला क्षेत्र में सिर्फ सीएनजी से चलने वाले टेंपो ही प्रवेश कर सकेंगे. डीजल चलित सवारी वाहनों पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा. सीएनजी टेंपो चालकों के लिए वर्दी अनिवार्य होगी. बगैर वर्दी कोई भी चालक मेला क्षेत्र में प्रवेश नहीं कर सकेगा. वर्दी के इंतजाम के लिए कुंभ मेला पुलिस विभाग कई कंपनियों व सामाजिक संगठनों से बात कर रहा है. यदि बातचीत सफल रही तो टेंपो यूनियन के माध्यम से चिन्हित चालकों में वर्दी का वितरण किया जाएगा.

कई एंगल पर चल रही तैयारी

कुंभ मेला के दौरान आने वाली भीड़ को नियंत्रित करने और उनकी सुविधाओं का ध्यान रखने के लिए पुलिस महकमा हर एंगल पर वर्क करने में जुटा है. श्रद्धालु परेड ग्राउंड तक बस व अन्य वाहनों से आ सकेंगे. इसके आगे सिर्फ सीएनजी टेंपो ही जा सकेंगे. इसमें भी वही टेंपो जिनके चालक पुलिस विभाग की ओर से उपलब्ध कराई गई वर्दी पहने होंगे. वर्दी के बगैर सीएनजी टेंपो भी मेला क्षेत्र में प्रवेश नहीं कर सकेंगे.

वर्दी संग आईकार्ड जरूरी

- टेंपो चालकों को यूनियन में ड्राइविंग लाइसेंस की फोटो कॉपी देनी होगी

- इसके साथ चालक की एक पासपोर्ट साइज फोटो भी अनिवार्य रूप से देनी होगी

- टेंपो के कागजात जैसे प्रदूषण, इंश्योरेंस, रजिस्ट्रेशन की प्रति भी देनी होगी

- यूनियन इन्हें कुंभ मेला पुलिस प्रशासन को उपलब्ध कराएगा

- इसके बाद संख्या को देखते हुए अधिकारी वाहनों का रूट तय करेंगे

- सभी चालकों को विभाग के जरिए एक पहचान पत्र जारी किया जाएगा

- बगैर वर्दी व पहचान पत्र के चालक टेंपो लेकर मेला क्षेत्र में नहीं जा सकेंगे

जाम लगा देगा ई-रिक्शा

ई-रिक्शा को भी मेला में प्रवेश नहीं दिया जाएगा. अधिकारियों का मानना है कि ई-रिक्शा मेला के अंदर नहीं चल सकते. वजह ये है कि चकर-प्लेट के बीच में स्पेश होता है. ई-रिक्शा के तीनों टायर पतले होते हैं. आगे का टायर पतला होने के कारण रेत में फंस सकता है. इससे मेला में जाम की स्थिति उत्पन्न हो सकती है. आशंका यह भी है कि मेला में जाने के लिए दोनों रूट पर चढ़ाई है. सवारी लेकर चढ़ते समय ई-रिक्शा बैक हुआ तो हादसा हो सकता है.

कोशिश की जा रही है कि मेला क्षेत्र में सीएनजी टेंपो को ही प्रवेश दिया जाय. चालकों को वर्दी दिए जाने के लिए कुछ वाहन कंपनियों व सामाजिक संगठनों से बात चल रही है. उम्मीद है कि बातचीत जल्द फाइनल हो जाएगी. चालकों के लिए आईकार्ड भी जारी किए जाएंगे. यूनियन से सूची मांगी गई है.

कवींद्र प्रताप सिंह, पुलिस उप महानिरीक्षक कुंभ