लोगों ने आधी रात पुल पर पहुंचकर नहीं लगाने दिये लोहे के एंगल

ऋषिकेश :

लक्ष्मण झूला पुल की आयु सीमा पूरी हो जाने के कारण शासन ने इसे बंद करने के आदेश के बाद जन आक्रोश के चलते प्रशासन और विभाग पुल को बंद नहीं कर पाया है. लक्ष्मण झूला के व्यापारियों ने विरोध स्वरूप बाजार बंद रखकर पुल के पास प्रदर्शन किया.

एंगल लगाने की योजना फेल

पौड़ी और टिहरी जिलों को जोड़ने वाले लक्ष्मण झूला पुल को लेकर तकनीशियन की रिपोर्ट के आधार पर लोक निर्माण विभाग नरेंद्रनगर के द्वारा शासन को रिपोर्ट भेजी गई थी. जिस में पुल को बंद करने की संस्तुति की गई. शुक्रवार को अपर सचिव शासन ओमप्रकाश ने आदेश जारी कर पुल को आवाजाही के लिए बंद करने के आदेश जारी कर दिए थे. प्रशासन की योजना शुक्रवार की मध्यरात्रि पुल के दोनों छोर को एंगिल लगाकर बंद करने की थी. इसके लिए सारी तैयारी पूरी कर ली गई थी. लक्ष्मण झूला क्षेत्र के व्यापारी और आम नागरिक रात में ही लक्ष्मण झूला पुल पर आकर जम गए. देर रात तक प्रशासन और विभाग के खिलाफ प्रदर्शन चलता रहा.

सहायक का किया घेराव

रात्रि करीब 1:30 बजे सहायक अभियंता एसएल गोयल वार्ता के लिए वहां पहुंचे थे. लोगों ने उनका घेराव कर दिया. इस दौरान उपजिलाधिकारी नरेंद्र नगर और यमकेश्वर सहित पुलिस उपाधीक्षक नरेंद्र नगर थाना मुनिकीरेती में मौके पर थे. विरोध को देखते हुए प्रशासन पुल को बंद नहीं कर पाया था. शनिवार की अलसुबह 2:30 बजे प्रदर्शनकारी पुल से हटे. इस दौरान नगर पंचायत अध्यक्ष माधव अग्रवाल, भाजपा नेता गुरु पाल बत्रा, अश्विनी गुप्ता, देवेंद्र राणा आदि की सहायक अभियंता के साथ बहस भी हुई। बाद में पुलिस वहां से लौट गई. पुल को बंद करने संबंधी आदेश के खिलाफ तमाम व्यापारियों ने शनिवार को बाजार बंद करने की घोषणा की थी. क्षेत्र का बाजार लोगों ने स्वेच्छा से बंद रखा. स्थानीय लोगों ने बारिश के बावजूद शिव चौक लक्ष्मण झूला पुल के समीप विभाग के खिलाफ प्रदर्शन किया.