नई दिल्ली (पीटीआई)। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण शुक्रवार को अपने बजट भाषण में कहा कि सरकार प्राइवेट कंपनियों के साथ मिलकर रेल इंफ्रास्ट्रक्चर को विकसित करना चाहती है। इसके लिए सरकार निजी कंपनियों से अनुरोध भी करेगी। मोदी 2।0 सरकार के पहले बजट को पेश करते हुए सीतारमण ने कहा, '657 किलोमीटर का मेट्रो रेल नेटवर्क बनाने का काम पूरे देश में चालू हो गया है, जबकि रेलवे के इंफ्रास्ट्रक्चर को 2030 तक विकसित करने के लिए 50 लाख करोड़ रुपये के निवेश की आवश्यकता होगी।'

गांव और शहर के फासले को दूर कर रहीं योजनाएं
उन्होंने कहा, 'भारत माला, सागरमाला और UDAN (उड़े देश का आम नागरिक) जैसी योजनाएं गांव और शहर के फासले को कम कर रही हैं और ट्रांसपोर्ट इंफ्रास्ट्रक्चर में भी सुधार कर रही हैं। रेल के इंफ्रास्ट्रक्चर को विकसित करने के लिए निजी कंपनियों से भी मिलकर काम करने का अनुरोध किया गया है।' उन्होंने कहा कि अगले कुछ वर्षों में पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य हासिल करना आसान होगा। उन्होंने कहा, 'हमने अपने कामों से दिखाया है कि 'प्रदर्शन, सुधार, परिवर्तन' के सिद्धांत वास्तव में सफल हो सकते हैं, एनडीए सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में कई बड़े काम किये हैं, आम चुनावों में मतदाताओं ने इस पर अपनी मुहर लगा दी है।'

यूनियन बजट पेश करने वाली देश की दूसरी महिला

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण शुक्रवार को यूनियन बजट पेश करने वाली देश की दूसरी महिला बन गई हैं। इसके अलावा सीतारमण इंदिरा गांधी के बाद दूसरी महिला रक्षा मंत्री भी रहीं। गांधी ने 1982 तक यह मंत्रालय संभाला था।

Business News inextlive from Business News Desk