-नमन मेडिसीन एजेंसी के गोदाम से डेढ़ दर्जन दवाओं की पेटियां जब्त, आरोपी भी हिरासत में

-बनारस, लखनऊ व पटना में फर्जी बिल से की गई थी आपूर्ति, व्यापारियों ने किया विरोध

<-नमन मेडिसीन एजेंसी के गोदाम से डेढ़ दर्जन दवाओं की पेटियां जब्त, आरोपी भी हिरासत में

-बनारस, लखनऊ व पटना में फर्जी बिल से की गई थी आपूर्ति, व्यापारियों ने किया विरोध

Meerut :Meerut : छापेमारी में एक मेडिकल एजेंसी के गोदाम से डेढ़ दर्जन प्रतिबंधित दवाओं की पेटियां मिली हैं. शासन के निर्देश पर प्रदेशभर में चल रही छापेमारी के तहत मंगलवार को एक टीम ने खैरनगर में दवा स्टोरों पर आकस्मिक छापेमारी की. पुलिस ने माल जब्त कर लिया, साथ ही आरोपियों को हिरासत में ले लिया. ड्रग विभाग ने दवाओं की सैंपलिंग की. छापेमारी के चलते खैरनगर में व्यापारियों ने हंगामा करते हुए घेराव किया. इस दौरान जाम के हालात बने रहे.

यहां मिली प्रतिबंधित दवाएं

खैरनगर में नमन मेडिसीन्स पर दोपहर में खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने पुलिस के साथ मिलकर छापेमारी की, जिसमें नोरफ्लोक्स, फोर्टविन, प्रोक्सीवन आदि दवाएं बड़ी मात्रा में मिलीं. टीम के मुताबिक, दुकान के मालिक नितिन व निखिल दवा खरीद संबंधी दस्तावेज व बिल प्रस्तुत नहीं कर सके.

यहां भेजी जा रही थीं दवाएं

बताया गया कि मेडिकल स्टोर से लखनऊ, बनारस एवं पटना तक बड़ी मात्रा में इन दवाओं की आपूर्ति की जा रही थी. नारकोटिक्स ग्रुप की प्रतिबंधित दवाएं मेडिकल स्टोर के बजाय उनके घर से बरामद की गई. फर्जी नाम के बिलों के द्वारा इन दवाओं की अवैधानिक रूप से आपूर्ति की गई थी. असिस्टेंट ड्रग कंट्रोलर पीके मोदी के नेतृत्व में चार ड्रग इंसपेक्टरों ने खैरनगर में लक्ष्मी स्टोर समेत अन्य दो मेडिकल एजेंसियों से भी सैंपलिंग की, जिसे जांच के लिए लखनऊ भेजा जाएगा.

व्यापारियों ने जताया विरोध

छापेमारी के दौरान खैरनगर के व्यापारियों ने विरोध जताया. इस दौरान जाम के हालात बने रहे. टीम ने करीब डेढ़ दर्जन पेटियां दुकान से बरामद की. इन्हें पुलिस ने जब्त कर लिया और जीप में डालकर थाने ले गई. वहीं रिक्शे पर दुकान मालिकों को हिरासत में लेकर थाने ले जाया गया. बाद में बड़ी संख्या में व्यापारी थाने पहुंचे और पुलिस व नारकोटिक्स विभाग की छापेमारी का विरोध जताया. उनका कहना है कि वारंट के बिना टीम घर नहीं जा सकती. दुकानदारों ने दावा किया कि नारकोटिक्स ग्रुप की दवाएं कंपनी को वापस करने के लिए रखी गई थी.