क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : रेलमंत्री बनने के बाद यह मेरी जिम्मेदारी बनती है कि देश के अलग-अलग राज्यों में जाकर यह देखूं कि वहां पर रेल परियोजनाओं की क्या स्थिति है. वहां के लोगों की रेलवे से क्या डिमांड है. स्टेशन, ट्रेन और पैसेंजर सुविधाओं का क्या हाल है. रेलवे को और भी ज्यादा पब्लिक फ्रेंडली कैसे बनाया जा सकता है. गुरुवार को झारखंड के दो दिवसीय दौरे पर रांची पहुंचे रेल मंत्री सदानंद गौड़ा ने मीडिया से रू-ब-रू होकर यह बातें कहीं. रेल मंत्री बीजेपी के प्रदेश मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने बताया कि झारखंड के बीजेपी के कार्यकर्ता चाहते थे कि मैं झारखंड आकर उनसे मिलूं, इसलिए शुक्रवार को चतरा में बीजेपी कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करना है.

महाराष्ट्र और हरियाणा में बहुमत

सदानंद गौड़ा ने कहा कि महाराष्ट्र और हरियाणा में बीजेपी पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने जा रही है. नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश आगे बढ़ रहा है, जिसका असर राज्यों में भी देखने को मिल रहा है. आनेवाले दिनों में भी झारखंड विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी का कमल खिलेगा. यह पूछने पर कि झारखंड में रेलवे की क्या स्थिति आपने देखी. कहां पर आपको क्या कमी मिली. इसके जवाब में रेल मंत्री ने कहा कि झारखंड में रेल की परियोजनाओं में सबसे बड़ी बाधा यहां पर भूमि अधिग्रहण है. इसके साथ ही फॉरेस्ट क्लियरेंस और स्टेट गवर्नमेंट के साथ 50 परसेंट की शेयरिंग भी एक बड़ी समस्या है. लेकिन इसे दूर किया जाएगा. उन्होंने बताया कि झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन से मिलकर इन सारी समस्याओं से उनको अवगत कराया है.

रेल अधिकारियों के साथ मीटिंग

रेल विभाग के अधिकारियों और स्टेट गवर्नमेंट के अधिकारियों के साथ मीटिंग की गई है. साढ़े तीन घंटे तक रेलवे अधिकारियों के साथ रिव्यू मीटिंग के बाद जो बाते सामने आई हैं, उनको चिह्नित किया गया. सदानंद गौड़ा से जब यह पूछा गया कि झारखंड में बीजेपी किसके नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी, इसके जवाब में सदानंद गौड़ा ने कहा कि यह केंद्रीय नेतृत्व तय करेगा. उन्होंने कहा कि झारखंड के बीजेपी कार्यकर्ता पूरी तरह से चुनाव में जाने की तैयारी कर लें. चुनाव में पार्टी को जीत दिलाने के लिए पूरी निष्ठा और मेहनत से काम करना होगा, तभी झारखंड में हम एक साफ-सुथरी और पूर्ण बहुमत की सरकार बीजेपी देगी.