-आईआरसीटीसी ने रेल टिकट की बुकिंग के नियमों में किया बदलाव

-अब टिकट चाहने वालों को बेवजह लाइन लगाने से मिलेगी निजात

varanasi@inext.co.in

VARANASI

रेलवे के तत्काल टिकट में अब दलालों की दाल नहीं गल पाएगी. ट्रेन्स में भीड़ को देखते हुए आईआरसीटीसी ने तत्काल टिकट के बुकिंग नियमों में बदलाव किया है. इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन ने तत्काल टिकट या टिकट की बुकिंग के लिए नए नियम बनाए हैं. इससे उन लोगों को टिकट लेने के दौरान दलालों के चलते परेशान नहीं होना पड़ेगा जो लास्ट समय में तत्काल टिकट बुक कराते हैं. उन्हें बेवजह लाइन नहीं लगानी पड़ेगी.

एसी व स्लीपर की अलग-अलग

पहले आईआरसीटीसी की वेबसाइट से एसी व स्लीपर कैटगरी के टिकट की बुकिंग एक साथ होती थी. इससे पब्लिक को बहुत परेशानी होती थी. जब तक वे अपनी कैटगरी का टिकट बुक करने के लिए इंतजार करते थे तब तक हाईस्पीड इंटरनेट वाले टिकट बुक कर लेते थे. लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. एसी तत्काल टिकट की बुकिंग सुबह 10 बजे से स्टार्ट होगी, जबकि स्लीपर कैटगरी की टिकट बुकिंग सुबह 11 बजे से होगी. यही नहीं जर्नी की डेट से एक दिन पहले आपको टिकट बुक करना होगा. इसके अलावा यदि कोई ट्रेन तीन घंटे से अधिक लेट हो चुकी है, तो पैसेंजर किराया और तत्काल शुल्क का पूरा धन वापसी का दावा कर सकता है.

अब तत्काल टिकट की वापसी

आईआरसीटीसी के वेबसाइट के थ्रू बुक होने वाला टिकट जर्नी न करने पर वापस नहीं होता था. लेकिन अब जर्नी न करने वाला पैसेंजर तत्काल टिकट पर वापसी का दावा कर सकता है. इस स्थिति में भी वापसी होगी जब किसी ट्रेन का रूट बदल दिया जाता है. यदि कोई पैसेंजर ट्रेन का रूट बदलता है और वह उस रूट पर जर्नी नहीं करना चाहता है तो पूरा धन वापस होगा.

आईआरसीटीसी के चेजेंज से पब्लिक को बहुत फायदा होगा. उन्हें आसानी से टिकट मिल जाएगा. नये नियम में पैसेंजर्स को लाइन लगाने से मुक्ति मिल जाएगी.

अश्वनी श्रीवास्तव, सीआरएम

आईआरसीटीसी, लखनऊ