-कैंट स्टेशन पर लगी आटोमेटिक टिकट मशीनों को किया जा रहा अपग्रेड

-अपग्रेड हो जाने पर मशीन के सामने स्टेशन का नाम बोलकर लगाना होगा अंगूठा, पलक झपकते हाथ में होगा टिकट

1ड्डह्मड्डठ्ठड्डह्यद्ब@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

ङ्कन्क्त्रन्हृन्स्ढ्ढ

कैंट स्टेशन पर पैसेंजर्स की सुविधा के लिए एक और नई व्यवस्था शुरू होने जा रही है. यहां लगी आटोमेटिक टिकट मशीनों से यदि आप टिकट निकालना नहीं जानते हैं तो आपकी यह परेशानी जल्द दूर होने वाली है. इन मशीनों को अपडेट किया जा रहा है. इनके अपडेट हो जाने के बाद आपको उसमें सिर्फ स्टेशन का नाम बोलकर अंगूठा लगाना होगा और पलक झपकते ही टिकट आपके हाथ में होगा.

बुर्जुगों के लिए ये नई व्यवस्था

आम पैसेंजर्स के सफर को सुविधाजनक बनाने के लिए रेलवे एक के बाद एक सुविधाओं में इजाफा कर रहा है. कैंट स्टेशन के जनरल काउंटर पर भीड़ होने की वजह से कई बार कई पैसेंजर्स की ट्रेन छूट जाती है. ऐसा न हो इसके लिए वाराणसी जंक्शन सहित अन्य रेलवे स्टेशंस पर भी आटोमेटिक टिकट वेंडिंग मशीन लगाई गई है, लेकिन इसमें बोलकर टिकट प्राप्त करने की सुविधा नहीं है. इसके लिए रिटायर्ड रेल कर्मियों को एजेंट के तौर पर तैनात किया गया है. मोबाइल से भी जनरल टिकट लेने की सुविधा है, लेकिन कम पढ़े लिखे और बुजुर्गो को टिकट लेने में परेशानी होती है. इसीलिए ये नई व्यवस्था की जा रही है. जिसके बाद टिकट मिलना आसान हो जाएगा.

24 घंटे तक मिलेगा टिकट

सेंटर फॉर रेलवे इंफॉर्मेशन सिस्टम (क्रिस) टिकट वेटिंग मशीन को अपग्रेड करने का काम स्टार्ट कर दिया है. इसके बाद मशीन के सामने खड़े होकर पैसेंजर को यात्रा शुरू करने वाले स्टेशन और यात्रा खत्म करने वाले स्टेशन का नाम बोलना पड़ेगा. टिकट का पैसा पेमेंट करने के लिए वेंडिंग मशीन में एटीएम कार्ड लगाना पड़ेगा. वहीं जो पढ़े लिखे नहीं हैं, उन्हें लिए स्क्रीन पर अंगूठा लगाने की व्यवस्था रहेगी जबकि पढ़ा लिखा व्यक्ति एटीएम का पिन नंबर डालेगा. इसके बाद वेंडिंग मशीन से टिकट बाहर निकल आएगा. इन मशीनों से स्टेशंस पर 24 घंटे टिकट लेने की सुविधा उपलब्ध रहेगी.

वर्जन--

स्टेशन पर लगी आटोमेटिक टिकट वेंडिंग मशीन के अपग्रेड हो जाने के बाद लोगों को कम समय में आसानी से टिकट उपलब्ध होगा. तब इनकी मदद करने के लिए कर्मचारी नियुक्त नहीं करना होगा.

आनंद मोहन, डायरेक्टर

कैंट स्टेशन