राज बब्बर के अध्यक्ष बनने पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं में उत्साह

कई बार आंदोलन व चुनावी सभा करने आ चुके हैं राज बब्बर

Meerut . मेरठ ही नहीं पूरे उत्तर प्रदेश में अपने अस्तित्व को बचाने के लिए जूझ रही कांग्रेस अगले साल विधानसभा चुनाव राज बब्बर के नेतृत्व में लड़ेगी. कांग्रेस ने मंगलवार को अभिनेता राज बब्बर को यूपी कांग्रेस का अध्यक्ष चुना है. वह निर्मल खत्री की जगह लेंगे. वहीं निर्मल खत्री को यूपी स्क्रीनिंग कमेटी का अध्यक्ष चुना गया है. इससे मेरठ के कार्यकर्ताओं को भी एक उम्मीद जागी है.

मेरठ में आते रहे है राज बब्बर

राज बब्बर का मेरठ से पुराना नाता रहा है. राज बब्बर अनेक बार मेरठ आ चुके हैं. मेरठ मे राज बब्बर ने चुनाव सभा, नगमा का कार्यालय का उद्घाटन, युसूफ कुरैशी को कांग्रेस ज्वाइन कराने, कमिश्नरी पर प्रदेश सरकार के खिलाफ आंदोलन में शिरकत करने व कार्यकर्ता सम्मेलन में शिरकत करने के लिए आते रहे हैं.

कार्यकर्ताओं में जश्न का माहौल

राज बब्बर को कांग्रेस का यूपी का प्रदेश बनाए जाने पर मेरठ के कांग्रेसी कार्यकर्ताओं में जश्न का माहौल है. राज बब्बर को अध्यक्ष बनाए जाने से एक बार फिर से कार्यकर्ताओं में जोश भर दिया है.

कांग्रेस कार्यकर्ताओं में खुशी

मेरठ कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को फिर से उम्मीद जागी है. बहुत दिनों से कांग्रेस ने एक चर्चित चेहरे को यूपी की कमान दी है.

वेस्ट यूपी में सक्रिय

यूपी से दो बार सांसद रह चुके राजबब्बर का पुराना गढ़ वैसे तो आगरा और आसपास के इलाके को माना जाता है. लेकिन 2014 में बीते लोकसभा चुनाव के समय से ही वह वेस्टर्न यूपी और उत्तराखंड में सक्रिय हो चुके हैं. गौरतलब कि उक्त चुनाव में कांग्रेस ने वेस्ट यूपी में अपना दांव फिल्मी सितारों के दम पर चला था, जिसमें मेरठ से नगमा और गाजियाबाद को राजबब्बर से लड़ाया गया था. 21 मार्च 2014 को राजबब्बर ने ही मेरठ में नगमा के चुनाव कार्यालय का उद्घाटन किया था. हालांकि 9 दिसंबर 2015 को राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के जन्मदिन पर आयोजित पैदल मार्च में उनका मेरठ दौरा अचानक रद्द हो गया था. मौजूदा समय में भी वह उत्तराखंड से कांग्रेस के राज्यसभा सांसद हैं.

सभी वर्गो पर दांव

चर्चा है कि कांग्रेस दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित को ब्राह्मण चेहरे के तौर पर पेश करने की तैयारी में है, ऐसे में राजबब्बर को अन्य वर्गो को लुभाने के लिए लाया गया है.

राज बब्बर के अध्यक्ष बनने से कांग्रेस को मजबूती मिलेगी. जमीन से जुड़े हुए कार्यकर्ताओं को महत्व दिया जाएगा. आगामी विधानसभा चुनाव में राज बब्बर के नेतृत्व में यूपी मे कांगे्रस की सरकार बनेगी.

विनय प्रधान जिलाध्यक्ष कांग्रेस

मसूद पर सियासी सरगर्मियां तेज

मेरठ अपने विवादित बयानों से चर्चा में रहने वाले सहारनपुर के कांग्रेस नेता इमरान मसूद को पार्टी का प्रदेश उपाध्यक्ष बनाया गया है. इसको लेकर भी सियासी चर्चाएं शुरू हो गई हैं गौरतलब है कि मसूद ने 2014 में बीजेपी के पीएम कैंडिडेट नरेंद्र मोदी की बोटी-बोटी करने का विवादित बयान देकर जेल की हवा भी खाई थी. इस बयान का काफी विरोध भी हुआ था. वहीं दबी जुबान में कई नेताओं का मानना है कि विवादित छवि वाले नेता को अहम जिम्मेदारी देना विधानसभा चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन पर बुरा असर डाल सकता है.

कांग्रेस ने इमरान मसूद को प्रदेश उपाध्यक्ष बनाकर अपनी ओछी राजनीति का परिचय दे दिया है. ऐसे व्यक्ति को प्रदेश के महत्वपूर्ण पद पर काबिज करके प्रदेश को सांप्रदायिकता की आग में झोंकने का काम किया है.

लक्ष्मीकांत वाजपेयी, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष बीजेपी

हर संगठन का अपना एक संविधान होता है. वह उसके तहत ही कार्यकारिणी का गठन करता है. इमरान मसूद सहारनपुर का बड़ा नेता है. इसलिए पद देने में किसी को कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए.

जयवीर सिंह, जिला अध्यक्ष सपा