क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : योगदा सत्संग कॉलेज में इंटर के स्टूडेंट युवराज सिंह के अपहरण में शामिल अपराधियों की धर-पकड़ के लिए रांची पुलिस की दो टीम बिहार के अलग-अलग ठिकानों पर जोर-शोर से छापेमारी कर रही है. पुलिस टीम को अपराधी चंदन सोनार गैंग के सक्रिय सदस्य कालू लामा की तलाश है. इस बाबत बिहार पुलिस ने अपने खुफिया लोगों से मदद मांगी है, ताकि कालू लामा के ठिकाने के बारे में जानकारी मिल सकें और अपहृत छात्र को जल्द सकुशल बरामद किया जा सके. हालांकि, फिरौती की रकम को लेकर कोई कॉल दोबारा नहीं आया है. पुलिस अपराधियों के कॉल आने का इंतजार कर रही है, ताकि सर्विलांस के जरिए अपहर्ताओं का लोकेशन जाना जा सके.

कालू के ठिकाने पर स्टूडेंट शिफ्ट

चंदन सोनार गैंग के एक संदिग्ध के पकड़ाने से पूर्व छात्र युवराज को कालू लामा के ठिकाने पर शिफ्ट कर दिया गया था. 14 सितंबर तक छात्र युवराज संदिग्ध के ठिकाने पर था. पुलिस की छापेमारी की सूचना होने पर छात्र को दूसरे ठिकाने पर शिफ्ट कर दिया गया. पुलिस ने एक संदिग्ध को पकड़ तो लिया था, मगर छात्र को बरामद नहीं कर सकी थी.

यह है पूरा मामला

छात्र युवराज सिंह ने दोस्त शंकर तिवारी संग मिलकर झूठी अपहरण की कहानी रची थी. बाद में दोस्त ने ही झूठी कहानी को सच में बदल दिया. युवराज सिंह चतरा के हंटरगंज का रहने वाला है. वर्तमान में लालपुर के नगड़ा टोली स्थित शंकर लॉज में रहता था. युवराज पढ़ाई के अलावा क्रिकेट की ट्रेनिंग कर रहा है. पूरे मामले का खुलासा उस वक्त हुआ, जब फिरौती की रकम को लेकर छात्र के घरवालों को फोन आया. इसके बाद मामले की जानकारी लालपुर पुलिस को दी गई. पुलिस के पास मामला पहुंचा तो रांची पुलिस की टीम हाजीपुर पहुंची. इसके बाद कार्रवाई करते हुए चार आरोपित को गिरफ्तार कर लिया था. छात्र का अबतक कोई सुराग नहीं मिला है.