सिविल लाइंस थाने में ग्रीन व‌र्ल्ड पब्लिकेशन इंडिया पर फर्जीवाड़ा व कापी राइट एक्ट के तहत दर्ज हुई एफआइआर

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: यूपी बोर्ड से अनुमति लिए बगैर बोर्ड की तरफ से संचालित एनसीईआरटी की किताबों का प्रकाशन करने को लेकर बोर्ड के उप सचिव की ओर से ग्रीन व‌र्ल्ड पब्लिकेशन के खिलाफ फर्जीवाड़ा व कापी राइट एक्ट के अन्तर्गत मुकदमा दर्ज कराया गया. बोर्ड के उप सचिव एसपी द्विवेदी की ओर से सिविल लाइंस थाने में दी गई तहरीर में संबंधित प्रकाशक द्वारा बिना बोर्ड की अनुमति के किताबों के प्रकाशन करने की बात कही गई है. बोर्ड के अधिकारी की ओर से मिली तहरीर पर पुलिस ने संबंधित प्रकाशक के खिलाफ आईटी एक्ट समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी.

चार प्रकाशकों को ही थी प्रकाशन की अनुमति

यूपी बोर्ड की ओर से एनसीईआरटी पैटर्न अपनाया गया है. जिसके बाद बोर्ड की तरफ से प्रदेश के चार प्रकाशकों को ही विभिन्न विषयों की किताबों के प्रकाशन की अनुमति दी गई थी. किताबों के प्रकाशन का कापी राइट सिर्फ बोर्ड के पास है. आरोप है कि ग्रीन व‌र्ल्ड पब्लिकेशन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने बोर्ड से अनुमति लिए बगैर किताबों का प्रकाशन करके उन्हें मार्केट में बेचना शुरू कर दिया. जिसके बाद बोर्ड की तरफ से संबंधित प्रकाशक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया.

वर्जन

- बोर्ड की ओर से मिली तहरीर पर संबंधित प्रकाशक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है.

शिवमंगल सिंह

इंस्पेक्टर, सिविल लाइंस