रोडवेज ने दिल्ली -गाजियाबाद से आने वाली बसों का किराया बढ़ाया

रूट डायवर्जन के कारण आने वाली बसों के किराये में इजाफा

Meerut . शहर की सड़कों से वाहनों का बोझ कम करने की मुहिम में प्रशासन द्वारा किया गया रुट डायवर्जन रोडवेज बसों के यात्रियों की जेब पर भारी पड़ रहा है. रुट डायवर्जन के कारण दिल्ली गाजियाबाद नोएडा से आने वाली बसों के किराये में रोडवेज ने इजाफा कर दिया है. इससे यात्रियों को भैंसाली डिपो तक आने के लिए लंबी दूरी तो तय करनी ही पड़ रही है साथ ही साथ यात्रियों को समय और पैसा भी बर्बाद हो रहा है.

सात रुपए का इजाफा

दरअसल गत माह ट्रैफिक पुलिस और रोडवेज प्रबंधन ने दिल्ली की तरफ से आने वाली बसों के शहर में सीधे प्रवेश पर रोक लगाते हुए जाम को कम करने के लिए रुट में बदलाव कर दिया था. इस बदलाव के चलते रोडवेज बसों को अब परतापुर -रोहटा रोड से कैंट एरिया होते हुए भैंसाली डिपो लाया जा रहा है. इस कारण से रोडवेज बसों को बस डिपो तक आने के लिए करीब 10 किमी का अतिरिक्त सफर करना पड़ रहा है. इसलिए दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा से आने वाली रोडवेज की बसों में 7 रुपए किराये को बढ़ा दिया गया है.

टोल टैक्स की मार

इन नए रुट प्लान के कारण दिल्ली गाजियाबाद से आने वाले यात्रियों को अब अनावश्यक टोल टैक्स का बोझ भी झेलना पड़ रहा है. दूरी बढ़ने के साथ साथ कैंट एरिया के टोल टैक्स का किराया भी यात्रियों की जेब से वसूला जा रहा है. इसलिए यात्रियों को अब अतिरिक्त किराया देना पड़ रहा है.

किराये में अंतर मेरठ आने में-

पुराना नया

दिल्ली आनंद विहार 60 67

गाजियाबाद 51 58

दुहाई 34 41

मुरादनगर 36 43

सीकरी 28 35

मोदीपुरम 24 31

दोनो का बढ़ा किराया

दूरी बढ़ने के बाद शुरुआत में सिर्फ भैंसाली डिपो की अनुबंधित बसों का किराया बढ़ाया गया था, लेकिन अब यह अनुबंधित के साथ निगम की बसों पर भी लागू कर दिया गया है. जिसके कारण यात्रियों को मेरठ से दिल्ली गाजियाबाद जाने में भले ही कम किराया देना पड़ रहा हो, लेकिन दिल्ली से वापसी भारी पड़ रही है.

वर्जन-

प्रशासन के प्लान के अनुसार रूट डायवर्जन हुआ है. अभी ईटीएम में बढ़ा हुआ किराया फीड किया गया है. शनिवार को इस संबंध में डीएम साहब से मीटिंग है जिसमें ट्रैफिक पुलिस के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे. बैठक में आगे का निर्णय लिया जाएगा.

- नीरज सक्सेना, आरएम रोडवेज

----------

दीपावली के लिए रिजर्वेशन हुआ फुल

- यात्रियों को अब बस तत्काल का ही सहारा

मेरठ. दीपावाली पर अपने घर जाने और घर आने वाले यात्रियों का सफर आसान नही होगा. दिवाली 7 नवंबर को मनाई जाएगी, ऐसे में 3 व 4 नवंबर यानी शनिवार व रविवार को मेरठ से जाने व मेरठ को आने वाली सभी एक्सप्रेस ट्रेनें फुल हो चुकी हैं. अब यात्रियों को अपने सफर के लिए केवल तत्काल टिकट का ही सहारा बचा हुआ है.

2 नवंबर से फुल हुई ट्रेनें

यात्रियों के लिए दीवाली पर रेल सफर आसान नही होगा. खासतौर पर 2, 3 व 4 नवंबर को नियमित ट्रेनों साथ एक्सप्रेस ट्रेनें पूरी तरह से फुल हो चुकी हैं. मेरठ से संचालित होने वाली तीनों प्रमुख ट्रेनें-नौचंदी, संगम और राजरानी तीनों दो माह पहले ही फुल पैक हो गई. ऐसे में जो यात्री अब दीपावली पर अपने घर जाने के लिए टिकट बुक कराने का प्रयास कर रहे हैं उन्हें वेटिंग मिल रही है.

यह है स्थिति-

नौचंदी एक्सप्रेस 14512

मेरठ से इलाहाबाद वाया लखनऊ

तिथि वेटिंग

2 नवंबर 32

3 नवंबर 50

4 नवंबर 29

5 नवंबर 17

6 नवंबर 71

संगम एक्सप्रेस

मेरठ से इलाहाबाद वाया कानपुर

तिथि वेटिंग

2 नवंबर 20

3 नवंबर 68

4 नवंबर 33

5 नवंबर 56

6 नवंबर 80

अधिकतर ट्रेनों में सीट वेटिंग में है. नौचंदी और संगम की बुकिंग एक माह पहले ही हो जाती है. ऐसे में जिनको जाना है वह काफी पहले टिकट बुक करा चुके हैं.

आरपी शर्मा, स्टेशन अधीक्षक