क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: रिम्स में नए ट्रामा सेंटर में मरीजों को एडमिट कर इलाज शुरू कर दिया गया है. जहां मरीजों को प्राइवेट हॉस्पिटलों की तर्ज पर ट्रीटमेंट दी जा रही है. वहीं डॉक्टर और नर्स भी 24 घंटे मरीजों की देखरेख में जुटे है. जिससे कि मरीजों को बेहतर इलाज मिलना शुरू हो गया है. ऐसे में ट्रामा में आने वाले मरीजों के परिजन भी राहत की सांस ले रहे है. बताते चलें कि पिछले हफ्ते सीएम ने हाईटेक सुविधाओं से लैस ट्रामा सेंटर का उद्घाटन किया था. लेकिन ऑक्सीजन गैस की सप्लाई नहीं होने के कारण चालू नहीं किया जा सका था.

इमरजेंसी से शिफ्ट किया जा रहा मरीजों को

हॉस्पिटल के इमरजेंसी में पहले की तरह ही मरीज आ रहे है. जहां से मरीजों की स्थिति ठीक होने के बाद उन्हें नए ट्रामा सेंटर में शिफ्ट किया जा रहा है. कुछ मरीजों को तो फुटओवर ब्रिज से ट्रामा में शिफ्ट किया गया. वहीं एक मरीज को एंबुलेंस से ट्रामा में लाया गया. अब मरीजों को बेहतर इलाज के साथ दवाएं भी उपलब्ध कराई जा रही है.

पल-पल की जानकारी ले रहे डॉक्टर

सेंटर के लिए स्पेशलिस्ट डॉक्टरों की बहाली की गई है. वहीं नर्सो को भी इसके लिए ट्रेनिंग दी गई है. ऐसे में रेगुलर इंटरवेल पर मरीजों का स्टेटस चेक किया जा रहा है. वहीं जरूरत पड़ने पर डॉक्टर भी तुरंत मरीजों का इलाज कर रहे है. आखिर 24 घंटे डॉक्टरों के ड्यूटी में रहने का फायदा मरीजों को मिल रहा है.

परिजनों के लिए भी एयर कंडिशंड वेटिंग रूम

इलाज के दौरान नए ट्रामा सेंटर में एक मरीज के साथ एक ही अटेंडेंट के आने की छूट दी गई है ताकि वहां पर अनावश्यक रूप से भीड़ न लगे. ऐसे में मरीजों के परिजनों के लिए शानदार वेटिंग रूम बनाया गया है. वहीं बैठने के लिए आरामदेह कुर्सियां भी लगा दी गई है. जिससे कि परिजन भी राहत की सांस ले रहे है. एक तो मरीज का इलाज हो रहा है. वहीं उन्हें भटकने की जरूरत नहीं है.