RANCHI: फैकल्टी की कमी से जूझ रहे रिम्स के रेडियोलॉजी डिपार्टमेंट में जल्द ही बहाली प्रक्रिया शुरू होने वाली है. इसके लिए रिम्स ने एडवर्टिजमेंट भी निकाल दिया है. वहीं असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए 31 मार्च को वाक इन इंटरव्यू का आयोजन किया गया है. ये बातें रविवार को रिम्स में अधिकारियों और जूनियर डॉक्टरों के साथ बैठक में प्रिंसिपल सेक्रेटरी निधि खरे ने कहीं. इसके बाद रेडियोलॉजी में असिस्टेंट प्रोफेसर और सीनियर रेजीडेंट्स की कमी दूर हो जाएगी. वहीं रेडियोलॉजी की पीजी सीटों पर मंडरा रहा खतरा भी खत्म हो जाएगा. बताते चलें कि फैकल्टी की कमी के कारण रेडियोलॉजी की मान्यता रद्द करने के लिए एमसीआई ने पत्र जारी किया था.

डेंटल, बायोकेमिस्ट्री व एनाटोमी का होगा प्रैक्टिकल

बैठक के दौरान जेडीए ने कुछ डिपार्टमेंट में प्रैक्टिकल नहीं होने का मामला भी उठाया. इसमें बताया गया कि डेंटल, बायोकेमिस्ट्री और एनाटोमी के स्टूडेंट्स की प्रैक्टिकल क्लास नहीं हो रही है. इसके बाद प्रिंसिपल सेक्रेटरी ने एक हफ्ते के अंदर प्रैक्टिकल शुरू कराने का निर्देश अधिकारियों को दिया. साथ ही पीजी सीट को लेकर फाइल चीफ सेक्रेटरी के पास भेजने की भी बात कहीं. वहीं सातवें वेतन आयोग के बारे में जेडीए द्वारा पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस पर विचार हो रहा है. जल्दी ही इस पर भी निर्णय लिया जाएगा.