-एकेटीयू को भेजी बीटेक और बीफार्मा के 411 स्टूडेंट्स की अधूरी जानकारी

-एकेटीयू ने फीस प्रतिपूर्ति की राशि देने से किया इनकार

>

BAREILLY: आरयू की लापरवाही के चलते बीटेक और बीफार्मा के 411 स्टूडेंट्स का भविष्य खतरे में है. आरयू कर्मचारियों ने पहले छात्र प्रतिपूर्ति के लिए एकेटीयू को स्टूडेंट्स की इंफॉर्मेशन नहीं भेजी. नतीजा यह रहा कि स्टूडेंट्स की फीस समय से जमा नहीं हो सकी. लिहाजा, जनवरी में हुए सेमेस्टर एग्जाम में स्टूडेंट्स शरीक नहीं हो सके. अब जब यूनिवर्सिटी ने फीस प्रतिपूर्ति के लिए छात्रों का नाम भेजा तो वह भी अधूरा भेज दिया. ऐसे में, स्टूडेंट्स पर अप्रैल में होने वाले सेकंड सेमेस्टर एग्जाम में शामिल न हो पाने का खतरा मंडराने लगा है.

भेजी भी तो अधूरी जानकारी

डॉ. अब्दुल कलाम प्राविधिक यूनिवर्सिटी के फाइनेंस ऑफिसर भानु प्रताप ने गत 27 फरवरी को आरयू को लेटर लिखा है, जिसमें उन्होंने जिक्र किया है कि आरयू ने 411 स्टूडेंट्स की फीस प्रतिपूर्ति की इंफॉर्मेशन अधूरी भेजी है. फाइनेंस ऑफिसर और डीन ने बीटेक और बीफार्मा के स्टूडेंट्स की सूची बगैर डिस्पैच नंबर के ही भेज दी है. इस कारण स्टूडेंट्स की फीस प्रतिपूर्ति भेजना संभव नहीं है.

एग्जाम देने से रोका

आरयू में बीटेक के सेमेस्टर एग्जाम जनवरी में हुए थे. तब भी स्टूडेंट्स की फीस प्रतिपूर्ति नहीं मिल सकी थी. इस वजह से स्टूडेंट्स को एग्जाम देने से रोकने का निर्देश दिया गया था, जिसके बाद एग्जाम शुरू होने से पहले यूनिवर्सिटी में काफी हंगामा हुआ. स्टूडेंट्स ने वीसी प्रो. मुशाहिद हुसैन का घेराव किया, लेकिन फिर भी उन्हें एग्जाम नहीं देने दिया गया. अब एक बार फिर उनके सामने यही स्थिति है. यदि उनकी फीस नहीं जमा हुई तो स्टूडेंट्स अप्रैल में एग्जाम नहीं दे सकेंगे.

फीस जमा नहीं होने पर जनवरी में एग्जाम देने से रोका गया गया था. वहीं, अप्रैल में सेकंड सेमेस्टर के एग्जाम होने हैं. ऐसे में चिंता सता रही है कि यूनिवर्सिटी एडमिनिस्ट्रेशन एग्जाम में शामिल होने देगा या नहीं.

प्रभादीप सोढ़ी

प्रकरण की जांच करवाई जाएगी, जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी. ताकि, स्टूडेंट्स के भविष्य पर कोई असर नहीं पड़े.

डॉ. एसएल मौर्य, रजिस्ट्रार