लखनऊ (ब्यूरो)। 1 सितंबर के बाद से प्रदेश भर के आरटीओ ऑफिस में बड़ी संख्या में लोग डीएल के लिए आवेदन करने पहुंच रहे हैं। कभी सर्वर स्लो तो कभी लंबी लाइन होने के चलते यहां आए दिन बवाल भी हो रहे हैं। ऐसे में केंद्रीय परिवहन मंत्रालय लर्निंग लाइसेंस की व्यवस्था सरल बनाने की तैयारी में जुटा है। उसकी कोशिश है कि इसके लिए लोगों को आरटीओ ऑफिस ही न आना पड़े।

बायोमैट्रिक के लिए आना पड़ता है

विभागीय अधिकारियों ने बताया कि डीएल की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन हो चुकी है। इसके सभी कार्य के लिए सारथी 4 की व्यवस्था की गई है। लर्निंग लाइसेंस के लिए लोगों को फोटो खिंचवाने और डिजिटल सिगनेचर के लिए आना पड़ता है। सारथी 4 में अभी आधार कार्ड के डाटा बैंक से डाटा रीड करने की सुविधा नहीं है। फोटो खिंचवाने के बाद आवेदक को आरटीओ ऑफिस में ऑनलाइन टेस्ट देना होता है। जिसमें उससे 15 सवाल पूछे जाते हैं। इसमें पास होने पर व्यक्ति का लाइसेंस सारथी 4 पर अपलोड कर दिया जाता है। जिसका प्रिंट आवेदक निकाल लेते हैं।

एनआईसी में करनी होगी व्यवस्था

जब लर्निंग लाइसेंस के लिए आधार अनिवार्य कर दिया जाएगा तो आवेदक के आधार कार्ड की डिटेल आरटीओ ऑफिस में खुद पहुंच जाएगी। इसके बाद उसे बायोमैट्रिक कराने के लिए आरटीओ ऑफिस नहीं आना होगा। हालांकि इससे पहले सारथी 4 को आधार कार्ड से लिंक करने की जरूरत होगी। ये व्यवस्था एनआईसी को करनी होगी।

कुछ इस तरह होगी नई प्रक्रिया

- ऑनलाइन करना होगा आवेदन

- क्वेश्चन पेपर भी ऑनलाइन मिलेगा

- टेस्ट भी ऑनलाइन और रिजल्ट भी ऑनलाइन

- पास होते ही वेबसाइट पर अपलोड होगा डीएल

- डीएल का प्रिंट घर बैठे ही निकाल सकेंगे

सब कुछ होगा ऑनलाइन

इस व्यवस्था के शुरू होने के बाद आवेदक को ऑनलाइन आवेदन करना होगा और उसे क्वेश्चन पेपर भी ऑनलाइन ही मिल जाएगा। पेपर में 10 से 15 प्रश्न होंगे। सभी प्रश्न की चार आसंर होंगे। आवेदक को सही आंसर भरना होगा। रिजल्ट भी ऑनलाइन ही आएगा। आवेदक के पास होते ही परिवहन विभाग की वेबसाइट पर उसका लर्निंग लाइसेंस तैयार हो जाएगा, जिसका वह प्रिंट निकाल लेगा।

आंकड़े एक नजर में

850 लर्निंग डीएल के आवेदन रोज सिटी में

400 लर्निंग डीएल रोज होते हैं जारी

'लर्निंग लाइसेंस की प्रक्रिया आसान करने की कवायद चल रही है। नई व्यवस्था में इसे हासिल करना आसान होगा। इसके आवेदकों को आरटीओ ऑफिस नहीं आना होगा। वे ऑनलाइन प्रक्रिया पूरी कर स्वयं इसका प्रिंट निकाल सकेंगे।'

- अरविंद कुमार, प्रमुख सचिव परिवहन, परिवहन विभाग

वेब लिंक

क्या यह व्यवस्था आरटीओ ऑफिस में जुटने वाली भीड़ को कम करने में कारगर होगी?

lucknow@inext.co.in

Posted By: Inextlive Desk

National News inextlive from India News Desk