- जोड़ों को मिला मैरेज सर्टिफिकेट के साथ ही बधाई पत्र

- सुखमय भविष्य के लिए अकाउंट में भेजे गए 65 हजार

GORAKHPUR: श्रम विभाग की ओर से निर्माण श्रमिकों की बेटियों के हाथ पीले करने के लिए रविवार को गोरखपुर यूनिवर्सिटी कैंपस में सामूहिक विवाह ऑर्गनाइज किया गया. यूनिवर्सिटी कैंपस में ऑर्गनाइज इस प्रोग्राम में 678 जोड़ों ने एक दूजे के साथ सात जन्मों का साथ निभाने का वादा किया. इसमें 25 जोड़े मुस्लिम व 50 जोड़े बौद्ध भी शामिल रहे. नव विवाहित जोड़ों को आशीर्वाद देने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे. इस दौरान उन्होंने चिकित्सा सहायता योजना के तहत तीन हजार रुपए, कन्या विवाह सहायता योजना के तहत 65 हजार रुपए का सर्टिफिकेट, मैरेज सर्टिफिकेट और बधाई पत्र भी डिस्ट्रि?यूट किया.

120 पुरोहित कर रहे थे सहयोग

गोरखनाथ मंदिर के मुख्य पुरोहित रामानुज त्रिपाठी 'वैदिक' ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच जोड़े का विवाह सम्पन्न कराया. पूरे पंडाल में पंक्तिबद्ध बैठे जोड़ों के पूजन-अर्चन व अन्य वैवाहिक क्रिया में 120 पुरोहित सहयोग कर रहे थे. शादी समारोह परंपरागत रूप से विधि-विधान के साथ ऑर्गनाइज किया गया. प्रोग्राम की शुरुआत मंत्रोच्चार के बीच द्वारपूजा से हुई. इसके बाद वैवाहिक कार्यक्रम शुरू हुआ. एक पंडाल में 603 ¨हदू जोड़ों के साथ 50 बौद्ध जोड़ों का भी विवाह हुआ.

गाजे-बाजे संग निकली बारात

विवाह कार्यक्रम शुरू होने से पूर्व गाजे-बाजे के साथ सांकेतिक बरात निकाली गई. श्रम विभाग व जिला के उच्च पदस्थ अधिकारियों की देखरेख में निकली बरात में उत्सव के साथ शालीनता भी अपनी गरिमा में उपस्थित थी. बरात पंडाल के दक्षिण तरफ से निकलकर क्रीड़ा परिसर के पश्चिम से घूमते हुए उत्तर तरफ से पंडाल में वापस आई. 26वीं वाहिनी पीएसी का बैंड शादी के गाने बजा रहा था. शहनाई की धुन से माहौल वैवाहिक और उत्सवपूर्ण हो गया था.

25 जोड़ों का हुआ निकाह

मुख्य मंच के बायीं तरफ 25 मुस्लिम जोड़ों के निकाह के लिए अलग पंडाल बना था. उप श्रमायुक्त देवी पाटन मंडल शमीम अख्तर व सीमा महमूद की देखरेख में हो रहे निकाह में सबसे पहले काजी ने लड़कियों से इजाजत ली, उसके बाद लड़कों को बताया कि तुम्हारा निकाह इतने मेहर (धनराशि) में कराया जा रहा है. इसके बाद शहर-ए-काजी वलीउल्लाह व हाफिज खैरुद्दीन ने निकाह की दुआ पढ़ी. शादी कबूल होने के बाद दुआएं की गई. समारोह को सांसद कमलेश पासवान, सांसद पंकज चैधरी, पशुधन, मत्स्य, राज्य सम्पत्ति एंव नगर भूमि विभाग राज्य मंत्री जयप्रकाश निषाद, विधायक डॉ. राधामोहन अग्रवाल, उपेन्द्र शुक्ल ने संबोधित किया.