कोरोना संक्रमण से बचने के लिए किन नियमों का किया जाना चाहिए पालन, सरकार ने जारी की गाइड लाइन

जिले में रोजाना बड़ी संख्या में दूसरे प्रदेशों से लोग आ रहे हैं। इनके लिए सरकार ने दो व्यवस्थाएं की है। जिनमें आइसोलेशन और क्वारंटाइन का इस्तेमाल किया जाता है। कोरोना वायरस से बचने के लिए क्वारंटीन की सलाह दी जाती है। क्वारंटीन के दौरान विदेश अथवा किसी दूसरे राज्य की यात्रा कर आने वालों को 14 दिन तक देखभाल में रखा जाता है। इस दौरान उसे आवश्यक उपचार व डॉक्टर की सलाह से दी जाती हैं। अलग-अलग क्वारंटीन सेंटर बनाए जाने के साथ होम क्वारंटीन की भी सलाह दी जाती है। सरकार ने होम क्वारंटीन के लिए गाइड लाइन जारी की है।

होम क्वारंटीन पर संक्रमण से बचने के लिए करें ये उपाय

- अपने घर के ऐसे कमरे में रहें जो हवादार हो और जिसमें शौचालय की सुविधा हो।

- यदि किसी अन्य सदस्य को उसी कमरे में रहना पड़े तो एक मीटर की दूरी जरूर बनाएं।

- व्यक्ति घर के बुज़ुगरें, गर्भवती महिलाओं और बच्चों से दूरी बनाकर रहें।

- ऐसे व्यक्ति किसी भी भीड़-भाड़ वाली जगह न जाए।

- हाथों को साबुन से बार-बार धोएं और अल्कोहालयुक्त हैंड सैनेटाइज़र का इस्तेमाल करें।

- अपने कपड़े, बिस्तर और बर्तन के सिवाए दूसरों के सामानों को न छुएं।

- कोरोना वायरस से बचाव के लिए सर्जिकल मास्क लगाकर रहें।

- मास्क को हर 6-8 घंटे में मास्क बदल दें, पुराने मास्क को किसी बंद ढक्कन वाले कूड़ेदान में फेंक।

- कमरे की साफ-सफाई करने से पहले हाथों में दस्ताने पहनें। जब दस्ताने उतारें तब हाथों को अच्छे से धोएं और सैनेटाइज करें।

- होम क्वारंटीन व्यक्ति की देखभाल घर का कोई एक सदस्य ही करे। यह व्यक्ति क्वारंटीन व्यक्ति की त्वचा से सीधे संपर्क से परहेज करें।

- बाहरी लोगों और मेहमानों को घर में न बुलाएं।

आइसोलेशन क्या है

आइसोलेशन उस व्यक्ति को किया जाता है जो कोरोना वायरस संक्रमित हो जाता है और उसके संक्रमण होने की पुष्टि डॉक्टर द्वारा कर ली जाती है। आइसोलेशन के दौरान उन्हें पूरी तरह की सुविधा दी जाती है उनका इलाज के साथ ख्याल रखा जाता है। आइसोलेशन वार्ड घर से दूर किसी एकांत स्थान पर होते हैं।

कोरोना के लक्षणों पर क्या करें

कोरोना वायरस के कुछ लक्षण खांसी, बुखार, सांस में तकलीफ़ दिखाई देते हैं तो चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग- 1800-180-5145 , स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय - 91 11-23978046, टोल फ्री नम्बर-1075 अथवा हेल्थ सेंटर 011-23978046 पर फोन कर सूचित कर सकते हैं।

इस समय बडी संख्या में प्रवासी आ रहे हैं। ऐसे में यह गाइड लाइन बेहद जरूरी है। इसका पालन प्रत्येक क्वारंटीन में गए व्यक्ति और परिवार के अन्य सदस्य को करना होगा। तभी खुद को संक्रमित होने से बचाया जा सकता है।

डा। मेजर गिरिजाशंकर बाजपेई, सीएमओ प्रयागराज

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner