स्कूलों के लिए शुरु होगी ग्रेड सर्टिफिकेट स्कीम

अब स्कूलों को मिलेगा रिपोर्ट कार्ड

- एजुकेशन सिस्टम को बेहतर बनाने के लिए फैसला

- विभिन्न स्तर पर स्कूलों को देना होगा जवाब

Meerut . माध्यमिक स्कूलों में शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए अब स्कूलों के लिए ग्रेड सर्टिफिकेट स्कीम शुरु होगी. शासन ने सरकारी स्कूलों की बेहतर पहचान व शिक्षण गुणवत्ता को बेहतर करने के लिए ऐसा फैसला लिया है. इस संबंध में सभी डीआईओएस को भी निर्देश जारी कर दिए गए हैं. जिसके तहत विभिन्न कार्यो व योजनाओं का हिसाब डीआईओएस स्तर से मांगा जाएगा.

लेटर लिखकर मांगा जवाब

शासन ने डीआईओएस को लेटर के जरिए जिलों के स्कूलों का पूरा हिसाब किताब व स्कूलों में योजनाओं के बारे में जानकारी मांगी है. इतना ही नहीं, योजनाओं को पूरा करने में स्कूलों का योगदान रहा है इसका भी जवाब मांगा है. इसके लिए हर दो मंथ में ये जानकारी देनी होगी. स्कूलों को जुलाई के आखिरी सप्ताह तक जानकारी मुहैया करानी होगी.

इन मुद्दों पर मांगी है जानकारी

- जिले में स्कूलों की स्थिति

- स्कूलों में मानव व भौतिक संसाधन.

- स्कूलों का निरीक्षण व उसकी रिपोर्ट

- स्कूलों में तैनात शिक्षकों से जुड़े मामले.

- क्लास एक से इंटर तक एनसीईआरटी किताबों के संचालन.

- टीचर्स और स्टूडेंट्स की उपस्थिति

- ड्रेस वितरण, छात्रवृति, मिड डे मील की जानकारी

- मेरठ में है 350 से अधिक माध्यमिक ग्रेड

- इससे पहले नहीं थी ये योजना, पहली बार शुरु हुआ है ये नया सिस्टम

तभी मिलेगा गे्रड

जब स्कूल इन सभी की जानकारी समय पर देंगे. तभी स्कूलों की रिपोर्ट पॉजिटिव होगी. उनके कार्यो के आधार पर उनको ग्रेड दिया जाएगा. ये ग्रेडिंग सर्टिफिकेट के साथ ही ए प्लस प्लस ग्रेड वाले स्कूलों को अवार्ड देकर सम्मानित किया जाएगा.

वर्जन

ब्योरा तैयार किया जाएगा, इसके लिए स्कूलों को भी अलर्ट किया गया है. ये बहुत ही अच्छी योजना है, इससे शिक्षा स्तर सुधरेगा.

श्रवण कुमार, डीआईओएस