-इंटरनेशनल स्टेंडर्ड पर बन रहा है पल्हेड़ा स्थित शूटिंग रेंज

- कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसबिलिटी के तहत होगा विकास

Meerut : पल्हेड़ा स्थित शूटिंग रेंज का कायाकल्प हो रहा है. सीएसआर (कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसबिलिटी) के तहत ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी) करीब 17 अत्याधुनिक मशीनों के लिए 48 लाख रुपये की फंडिंग कर रहा है. औपचारिकताएं पूर्ण हो चुकी है और आने वाले दिनों में मेरठ की शूटिंग रेंज देश के नामचीन शूटिंग रेंज में शामिल होगी.

शॉट गन की आएंगी मशीनें

डीएम समीर वर्मा ने दैनिक जागरण आई नेक्स्ट को बताया कि पल्हेड़ा स्थित शूटिंग रेंज में स्माल बोर (राइफल-पिस्टल) के लिए ओलंपिक मानकों के अनुसार इस्ट्रमेंट्स मौजूद हैं. जबकि ओएनजीसी शार्ट गन (ट्रैप शॉटगन, स्पीड, डबल ट्रैप) के लिए 17 अत्याधुनिक मशीनों को पल्हैड़ा शूटिंग रेंज में स्थापित करेगा. इस्टॉलेशन के साथ इन मशीनों की अनुमानित कीमत 48 लाख रुपये है.

-------------

लंबे समय से चल रही कवायद

पल्हेड़ा में शूटिंग रेंज डेवलप होने के बाद से उसे पीपीपी मॉडल पर विकसित किया जा रहा है. उप्र राइफल एसोसिएशन से एफीलेटेड द्रोणाचार्य स्पो‌र्ट्स डेवलपमेंट सोसाइटी इस शूटिंग रेंज को डेवलप कर रही है. डीएम ने ज्वाइनिंग के बाद से ही शूटिंग रेंज का दौरा कर स्थितियों का परीक्षण किया और इसे इंटरनेशनल स्टैंडर्ड पर डेवलेप करने के लिए प्रयास तेज कर दिए. इसी क्रम में ओएनजीसी से बातचीत हुई और सीएसआर के तहत एक बड़ा फंड जेनरेट किया गया है. डीएम ने दावा किया कि मेरठ की पल्हैड़ा शूटिंग रेंज को व‌र्ल्ड क्लास शूटिंग रेंज का दर्जा दिलाया जाएगा और कहा कि अब मेरठ समेत वेस्ट यूपी की प्रतिभाओं को दिल्ली या देश की किसी शूटिंग रेंज में जाने की आवश्यकता नहीं है.

-------------

वर्जन

पल्हैड़ा स्थित शूटिंग रेंज में अभी तक ट्रैप शॉटगन मैन्युअली है. ओएनजीसी सीएसआर फंड से करीब 48 लाख रुपये कीमत की 17 मशीनें रेंज को दे रहा है. शूटिंग रेंज को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर डेवलप किया जाएगा.

समीर वर्मा, डीएम मेरठ