नई दिल्ली (आईएएनएस)। Shraddha Murder Case : आफताब अमीन पूनावाला ने फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी (FSL) में किए गए पॉलीग्राफ टेस्ट के दौरान अपनी लिव-इन पार्टनर श्रद्धा वाल्कर की हत्या करने की बात कबूल की। इसके साथ ही उसके शरीर के अंगों को जंगल में ठिकाने लगाने की बात भी स्वीकार की है। उसके कई लड़कियों से संबंध भी थे। हाल ही में दिल्ली पुलिस ने आफताब की उस साइकोलाॅजिस्ट महिला दोस्त से संपर्क किया जो आफताब श्रद्धा की हत्या के बाद उससे मिली। पुलिस ने श्रद्धा की वह अंगूठी भी बरामद की है जो आफताब ने उस महिला को 12 अक्टूबर को उपहार में दी थी।

मोबाइल डेटिंग एप्लिकेशन 'बम्बल' पर मीटिंग
आफताब महिला से मोबाइल डेटिंग एप्लिकेशन 'बम्बल' पर मिला था। उसी प्लेटफॉर्म पर जहां वह पहली बार श्रद्धा से भी मिला था। पुलिस को दिए अपने बयान में महिला ने कहा कि वह आफताब से उसके छतरपुर स्थित आवास पर दो बार मिली थी जिसे उसने श्रद्धा के साथ शेयर किया था। हालांकि उसे रेफ्रिजरेटर में रखे श्रद्धा के शरीर के अंगों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। सूत्रों के मुताबिक 18 मई को श्रद्धा को मारने के 12 दिन बाद 30 मई को वह डेटिंग ऐप पर आफताब से मिली थी।

कोर्ट ने नार्को टेस्ट कराने की इजाजत दी
इससे पहले मंगलवार को एक अदालत ने दिल्ली पुलिस को आफताब का 1 और 5 दिसंबर को नार्को टेस्ट कराने की इजाजत दी है। सूत्रों ने कहा कि इस मामले में एक पॉलीग्राफ और एक नार्को टेस्ट अनिवार्य है, क्योंकि पूछताछ के दौरान आफताब भ्रामक प्रकृति का था और पूछताछकर्ताओं को गुमराह करने की कोशिश करता था।

National News inextlive from India News Desk