dehradun@inext.co.in
DEHRADUN: सावन का पहला सोमवार आज है. जलाभिषेक के लिए दून के मंदिर और शिवालय सज गए हैं. आज भगवान शिव की विशेष पूजा-अर्चना और रुद्री पाठ किया जाएगा. मंदिरों में सुबह से ही शिवभक्तों की भीड़ उमड़ेगी. इसके लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं.

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम
सावन का महीना शिवभक्तों के लिए खास आकर्षण का केंद्र होता है. कहा जाता है कि गंगा देवलोक से पृथ्वी पर सावन के महीने में ही शिव की जटाओं में आई थी. इसलिए सावन मास में शिव के जलाभिषेक का विशेष महत्व है. आज दून के शिवालयों में भोर से ही जलाभिषेक शुरू होगा. शिवभक्तों की सुविधा को मंदिरों में विशेष इंतजाम किए गए हैं. मंदिरों और शिवालयों को फूल-मालाओं से सजाया गया है. रंग-बिरंगी लाइटों से मंदिरों की साज-सज्जा देखते ही बन रही है. जलाभिषेक के लिए शिवभक्तों को किसी प्रकार की परेशानी न हो, इसके लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. उधर, संडे को सावन के पहले जलाभिषेक को लेकर बाजारों में खासी चहल-पहल दिखाई दी. तड़के जलाभिषेक के लिए शिवभक्त संडे को ही मंदिरों के आसपास और बाजारों में सजी फूल, प्रसाद की दुकानों से बेल पत्र, भांग, धतूरा आदि की खरीदारी करते दिखाई दिए. शिव मंदिर दिव्य विहार के पंडित मुकेश नौटियाल ने बताया कि सावन में भगवान शिव के जलाभिषेक और पूजन का अलग महत्व है. इससे भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं.