चार गुना रेंट देकर रहते थे बदमाश

सिटी में लूट-छिनैती की वारदातें करने वाले इस गैंग के मेंबर घोसीपुरवा मोहल्ले में किराये पर मकान लेकर रहते थे. मकान मालिक डिस्टर्ब न करे इसके लिए बदमाशों ने चार माह का एडवांस किराया भी दे दिया था. सीओ विनोद पांडेय ने बताया कि बदमाशों की पहचान कटिहार जिले के कोड़ा एरिया के नया टोला जुराबगंज निवासी रौनित यादव के रूप में हुई. उसके साथी नरेश कुमार यादव और विनोद यादव उर्फ गणेश कुमार हैं जो उसी गांव के रहने वाले हैं. इस गांव के ज्यादातर लोग लूट और छिनैती के धंधे में लगे हुए हैं. बढ़िया क्राइम करने वालों को गांव के लोग सम्मान देते हैं.

2009 में भी जा चुके हैं जेल

पुलिस का कहना है कि लूट और छिनैती की वारदातें करने वाले बदमाशों का यह गैंग 2009 में जेल जा चुका है. इनके खिलाफ कैंट, खोराबार, शाहपुर और कोतवाली में लूट, छिनैती के मामले दर्ज हैं. 2009 में जेल से जमानत पर छूटने के बाद इस गैंग के मेंबर किसी अन्य सिटी में चले गए. दोबारा लौटकर आए तो मुसीबत बन गए. फरार बदमाशों की तलाश की जा रही है.

पुलिस टीम की कामयाबी पर एसएसपी ने पांच हजार रुपये का ईनाम दिया है. इस टीम के अन्य सदस्यों की तलाश में पुलिस लगी हुई है.

परेश पांडेय, एसपी सिटी