JAMSHEDPUR : पश्चिमी सिंहभूम के गुवा थाना अंतर्गत बेतरकेया गांव के मंगल पुरती ने जन्म देने वाली मां जानो पुरती (65 वर्ष) को कुल्हाड़ी से वार कर निर्मम हत्या कर दी है. घटना गुरुवार दोपहर लगभग एक बजे की है. गांव के डाकुआ गोमा मारली ने हत्यारोपी मंगल को छोटे भाई राजेन पुरती के घर पर रस्सी से खूंटे में रात भर बांधकर रखा था. शुक्रवार को गुवा पुलिस के पहुंचने के बाद लगभग साढ़े 11 बजे उसे रस्सी खोलकर पुलिस को सौंप दिया.

जंगल से मिला शव

मुंडा मंगल पुरती की सूचना पर गांव पहुंची पुलिस ने लुपुंग गोडा जंगल से शव को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. छोटे बेटे राजेन पुरती के बयान पर आरोपित युवक के खिलाफ गुवा थाने में मामले को लेकर प्राथमकि दर्ज कर जेल भेज दिया गया. हत्या का कारण नशा पान बताया जा रहा है.

हत्या कर कुल्हाड़ी ले घूमता रहा

मां को मौत के घाट उतारने वाला हत्यारोपी मंगल पुरती हाथ में खून से सनी कुल्हाड़ी लेकर लगभग 3 घंटे तक इत्मीनान होकर घूमता रहा. ग्रामीणों द्वारा पूछताछ करने पर यह कहकर चुप्पी साध लेता था कि मेरी मां की जंगल में मैंने काट कर हत्या कर दी है. आश्चर्य की बात यह है कि खून से सनी कुल्हाड़ी हाथ लेकर घूमता रहा. फिर भी किसी ने उसे घेरकर पकड़ने का साहस नहीं किया.

राजेन के घर रिश्तेदारों को न्योता

राजेन पुरती के घर पर शुक्रवार को रिश्तेदारों का न्योता था. इसके लिए घर में पूरी तरह से तैयारी हो चुकी थी. पटालोआ गांव में बेटी लुदरी पुरती का विवाह होने के कारण उनके रिशतेदार उत्सव में शामिल होने के आमंत्रित थे. घटना के बाद उत्सव को स्थगित कर दिया गया. छोटे बेटे राजेन पुरती ने बताया है कि वो और मंगल पुरती दो भाई हैं. मंगल पुरती मां के साथ पुतकर साईं टोला में रहता है जबकि वो डाकुआ टोला में अलग से घर बनाकर रहता है.

नक्सल प्रभावित है बेतरकेया जंगल

गुवा थाना क्षेत्र के बेतरकेया गांव जंगल निकट होने के कारण इसे नक्सल प्रभावित इलाका माना जाता है. इसी को लेकर तीनों गुवा, बड़ाजामदा व नोवामुंडी थाने की पुलिस संयुक्त रूप में घटनास्थल पहुंची हुई थी. पुलिस ने गांव के मुंडा मंगल पुरती, डाकुआ गोमा मारली समेत कुछ ग्रामीणों को घटना स्थल बुला लिया था.

Posted By: Inextlive