प्लान 'ए' के साथ 'बी' पर भी करें काम, ताकि पब्लिक न हो परेशान

मौनी अमावस्या पर व्यवस्थाओं में रह गई थी कुछ कमी

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: मौनी अमावस्या पर संगमनगरी प्रयागराज में जिस तरह से आस्था का सैलाब उमड़ा, वह देखने लायक था. संयोग ही रहा कि कोई हादसा नहीं हुआ. बसंत पंचमी पर ऐसी स्थिति न हो, इसलिए खामियों व कमियों से सबक लेते हुए एडमिनिस्ट्रेशन को खास इंतजाम करने चाहिए. दैनिक जागरण आईनेक्स्ट रिपोर्टर ने शहर के बुद्धिजीवियों से बात की तो उन्होंने प्रशासन के लिए कई सुझाव दिए.

अमावस्या पर सामने आई कमियां

- मेला क्षेत्र से लेकर इलाहाबाद जंक्शन तक पूरे रास्ते, कहीं भी पीने के पानी का इंतजाम नहीं किया गया.

- बूढ़े-बच्चे, जवान सभी को पैदल ही 15 से 20 किलोमीटर चलने के लिए मजबूर किया गया.

- अव्यवस्था की वजह से लोग जंक्शन तक नहीं पहुंच पाए और कई लोगों की ट्रेन छूट गई.

- मेला से शहर में लाकर एक रोड पर लोगों को पैक कर दिया गया.

बुद्धिजीवियों के ये रहे सुझाव

- मेला से एक साथ न छोड़ी जाए भीड़

- भीड़ को मेला में ही इधर-उधर घूमने दिया जाए

- लोगों को उनकी प्लान के अनुसार ही मेला में टहलने दिया जाए

- इससे मेला खाली और शहर में भीड़ की अफरा-तफरी नहीं मचेगी

- ट्रेनों की टाइमिंग का एनाउंसमेंट मेला क्षेत्र में ही किया जाए

- भीड़ एक बारगी शहर में न आए इसके लिए स्टॉप प्वाइंट बनाए जाएं

अभिलाषा गुप्ता नंदी

मेयर, नगर निगम प्रयागराज

------

- मेला क्षेत्र से आने वाले रास्तों पर पड़ने वाले स्कूल-कॉलेज में लोगों को रोकने का इंतजाम हो.

- जमीन पर मैट और गद्दा बिछाया जाए. मैदान हो तो वहां बस टेंट लगवा दिया जाए.

- एडमिनिस्ट्रेशन ने जो प्लान बनाया है, उसे लागू करें, लेकिन साथ ही दूसरा प्लान भी जरूर तैयार रखें.

विजय अरोरा

अध्यक्ष, प्रयाग व्यापार मंडल

------

- बुजुर्गो को ई-रिक्शा से मेला तक ले जाने के लिए सुरक्षित की जाए एक लेन

- ताकि बुजुर्गो को मेला क्षेत्र तक पैदल न जाना पड़े. बुजुर्गो की मदद के लिए संस्थाओं को जिम्मेदारी दें

- एडमिनिस्ट्रेशन ई-रिक्शा के लिए एक लेन रिजर्व करे तो दवा व्यापारी 50 ई-रिक्शा अपने खर्च पर लगाने को तैयार हैं.

परमजीत सिंह

अध्यक्ष, इलाहाबाद ड्रगिस्ट एंड केमिस्ट एसोसिएशन

--------

- कई किलोमीटर की यात्रा कर शहर से मेला और मेला से शहर आने वालों के लिए एडमिनिस्ट्रेशन ने खाने-पीने की कोई व्यवस्था नहीं की

- संस्थाएं और व्यापारी भंडारा कर रहे हैं तो उन्हें परमिशन नहीं दी जा रही है.

- दोना-पत्तल सड़क पर गिरने पर नोटिस दी जा रही है.

- एडमिनिस्ट्रेशन अलग-अलग एरिया में जगह सुनिश्चित करे, जहां लोगों को ठहराने की व्यवस्था हो और वहीं संस्थाएं भंडारा कर लोगों की सेवा कर सकें.

सरदार जोगेंदर सिंह

अध्यक्ष, होटल एसोसिएशन

-------

- मेला क्षेत्र से आने और जाने वाले सभी प्रमुख मार्गो पर 200-300 मीटर की दूरी पर टैंकर की व्यवस्था की जाए.

- बुजुर्गो का विशेष ध्यान रखा जाए, ताकि लौटने वाला व्यक्ति पीड़ा भाव के साथ नहीं बल्कि उत्साह व ऊर्जा के साथ लौटे.

संतोष पनामा

संयोजक

उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार कल्याण समिति

- स्नान पर्व के दिन भीड़ को डायवर्ट करने और रोकने के लिए शहर से बाहर व शहर में कुछ स्थानों पर सांस्कृतिक कार्यक्रम कराएं

- सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजन भीड़ को रोकते हैं.

महेंद्र गोयल

अध्यक्ष, कंफेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स