कोलंबो (पीटीआई) श्रीलंका के इन चुनावों में मौजूदा राष्ट्रपति मैत्रिपाल सिरिसेना पूर्व रक्षा मंत्री और मुख्य विपक्षी नेता गोतबया राजपक्षे का समर्थन करेंगे। गौरतलब है कि गोतबया पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे के भाई हैं जिन्हें बीते चुनावों में हराकर सिरिसेना राष्ट्रपति बने थे।

महिंदा राजपक्षे के साथ बातचीत के बाद किया समर्थन
सिरीसेना, जिन्होंने शनिवार को विपक्षी नेता महिंदा राजपक्षे के साथ महत्वपूर्ण बातचीत की, ने गोतबया की उम्मीदवारी का समर्थन करने का फैसला किया है, जो अब सत्तारूढ़ यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) के उम्मीदवार सजदा प्रेमदासा के खिलाफ मुख्य विपक्षी चुनौती होगी। सिरिसेना की फ्रीडम पार्टी (एसएलएफपी) ने राजपक्षे की पीपल्स पार्टी से मांग की थी कि पार्टी के 'फूल की कली' चुनाव चिह्न की जगह किसी कॉमन सिंबल पर चुनाव लड़ा जाए। हालांकि, एसएलपीपी सूत्रों ने कहा कि अनुरोध को नजरअंदाज कर दिया गया था क्योंकि एसएलपीपी ने पहले ही अपने चुनाव चिह्न के तहत जमा राशि का भुगतान कर दिया था।

sri lanka election: राष्‍ट्रपति चुनावों में जोरदार टक्‍कर,रिकॉर्ड उम्‍मीदवार उतरे मैदान में

बना एक रिकॉर्ड
विभिन्न राजनीतिक दलों और स्वतंत्र समूहों का प्रतिनिधित्व करने वाले रिकॉर्ड 41 उम्मीदवारों ने रविवार को चुनाव के लिए जमा राशि का भुगतान किया था। अधिकारियों ने कहा कि यह अभी तक की राष्ट्रपति पद के उम्मीदवारों की सबसे बड़ी संख्या थी। उन्होंने कहा कि कुल 41 उम्मीदवारों ने जमानत राशि जमा की, लेकिन छह ने अपना नामांकन दाखिल नहीं किया। डिपॉजिट की समय सीमा रविवार को दोपहर 12 बजे समाप्त हो गई और सिरिसेना उन 41 उम्मीदवारों में शामिल नहीं थे, जिन्होंने सोमवार को नामांकन सौंपने के लिए जमा राशि का भुगतान किया था।

पहली बार होगा ऐसा
इसके अतिरिक्त, चुनाव 1982 के बाद से पहला होगा जब वर्तमान राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री या विपक्षी नेता उम्मीदवार नहीं होंगे। राष्ट्रपति सिरिसेना, प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे और मुख्य विपक्षी नेता राजपक्षे अलग-अलग कारणों से मैदान में नहीं हैं। प्रेमदासा के वफादारों द्वारा विक्रमसिंघे को उन्हें उम्मीदवार के रूप में नामित करने के लिए मजबूर किया गया जबकि वे पार्टी नेता होने के चलते उम्मीदवार नामित होना चाहते थे। उम्मीदवार 12 नवंबर तक प्रचार कर सकते हैं। चुनाव 16 नवंबर को होगा। अन्य प्रमुख उम्मीदवारों में पूर्व सेना प्रमुख महेश सेनानायके और एमके शिवाजिलिंगम हैं, जो तमिल बहुल उत्तरी प्रांत के तमिल राजनीतिज्ञ हैं।

Posted By: Chandramohan Mishra

International News inextlive from World News Desk